MP Ke Pramukh Vaktitava मध्य प्रदेश के प्रमुख व्यक्तित्व 01 { Famous Personalities of Madhya Pradesh }


मध्य प्रदेश के प्रमुख व्यक्तित्व 01 { Famous Personalities of Madhya Pradesh }

 MPमध्यप्रदेश के प्रमुख व्यक्तित्व (जानी-मानी हस्तियां)

कुमार गंधर्व Kumar Gandharv

  • कुमार गंधर्व का जन्म कर्नाटक के धारवाड़ में 8 अप्रॅल 1924 को हुआ। 
  • पूरा नाम शिवपुत्र सिद्धरामैया कोमकाली
  • पुणे में प्रोफेसर देवधर और अंजनी बाई मालपेकर से संगीत की शिक्षा पाई।
  • शिवपुत्र जन्म जात गायक थे। दस वर्ष की आयु से ही संगीत समारोहों में गाने लगे थे और ऐसा चमत्कारी गायन करते थे कि उनका नाम कुमार गंधर्व पड़ गया।
  • कुमार गंधर्व जी ने विवाह अप्रॅल 1947 में भानुमती जो स्वयं एक अच्छी गायिका थीं, से किया और देवास, मध्य प्रदेश आ गये।
  • 68 वर्ष की उम्र में 12 जनवरी, 1992 में देवास में उनका निधन हो गया।

माखन लाल चतुर्वेदी Makhan lal chaturvedi

  • कवि, लेखक, पत्रकार माखन लाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल, 1889 ई. में बावई, मध्य प्रदेश में हुआ था
  • माखनलाल चतुर्वेदी की मृत्यु 1968 ई. में हुई।
  • इनका परिवार राधावल्लभ सम्प्रदाय का अनुयायी था
  • 1913 ई. में चतुर्वेदी जी ने प्रभा पत्रिका का सम्पादन आरम्भ किया
  • चतुर्वेदी जी ने 1918 ई. में 'कृष्णार्जुन युद्ध' नामक नाटक की रचना की
  • 1919 ई. में जबलपुर से 'कर्मवीर' का प्रकाशन किया।
  • यह 12 मई, 1921 ई. को राजद्रोह में गिरफ़्तार हुए 1922 ई. में कारागार से मुक्ति मिली। 
  • चतुर्वेदी जी ने 1924 ई. में गणेश शंकर विद्यार्थी की गिरफ़्तारी के बाद 'प्रताप' का सम्पादकीय कार्य- भार संभाला। यह 1927 ई. में भरतपुर में सम्पादक सम्मेलन के अध्यक्ष बने 
  • 1948 ई. में 'हिम तरंगिनी' और 1952 ई. में 'माता' काव्य ग्रंथ प्रकाशित हुए।
रचनाएँ
  • 'कृष्णार्जुन युद्ध' (1918 ई.)
  • 'हिमकिरीटिनी' (1941 ई.),
  • 'साहित्य देवता' (1942 ई.)
  • 'हिमतरंगिनी' (1949 ई.- साहित्य अकादमी पुरस्कार से पुरस्कृत)
  • , 'माता' (1952 ई.)। 'युगचरण', 'समर्पण' और 'वेणु लो गूँजे धरा
  • उनकी कहानियों का संग्रह 'अमीर इरादे, गरीब इरादे' नाम से छपा है।

डॉ. विष्णु श्रीधर वाकणकर
  • उज्जैन के प्रसिद्ध पुरातत्वविद्, कला गुरु।

डॉ. शिवमंगल सिंह 'सुमन' Shiv Mangal Singh Suman

  • डॉ. शिवमंगल सिंह 'सुमन' का जन्म उत्तर प्रदेश के उन्नाव ज़िले में 5 अगस्त सन् 1915 को हुआ।
  • ग्वालियर के विक्टोरिया कॉलेज से बी.ए. और काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से एम.ए. , डी.लिट् की उपाधियाँ प्राप्त कर ग्वालियर, इन्दौर और उज्जैन में उन्होंने अध्यापन कार्य किया।
काव्य संग्रह
  • हिल्लोल
  • जीवन के गान
  • प्रलय-सृजन
  • विश्वास बढ़ता ही गया
  • पर आँखें नहीं भरीं
  • विंध्य हिमालय
  • मिट्टी की बारात
  • वाणी की व्यथाकटे 
  • अगूठों की वंदनवारें
गद्य रचनाएँ
  • महादेवी की काव्य साधना
  • गीति काव्य: उद्यम और विकास
नाटक
  • प्रकृति पुरुष कालिदास
सम्मान और पुरस्कार
  • 1974 में 'मिट्टी की बारात' के लिए साहित्य अकादमी
  • 1993 में 'मिट्टी की बारात' के लिए 'भारत भारती पुरस्कार' से सम्मानित।
  • 1974 में भारत सरकार द्वारा पद्मश्री से सम्मानित।
  • 1999 में पद्म भूषण
  • 1958 में देवा पुरस्कार
  • 1974 में सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार
  • 1993 में मध्य प्रदेश सरकार द्वारा शिखर सम्मान

पंडित बालकृष्ण शर्मा "नवीन Pandit Bal Krishna Sharma
  • प्रगतिशील लेखन के अग्रणी कवि पंडित बालकृष्ण शर्मा "नवीन" का जन्म 8 दिसम्बर, 1897 ई. में ग्वालियर राज्य के भयाना नामक ग्राम में हुआ था।
  • शाजापुर से अंग्रेज़ी मिडिल पास करके वे उज्जैन के माधव कॉलेज में प्रविष्ट हुए।
  • बालकृष्ण नवीन को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन् 1960 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।
  • बालकृष्ण शर्मा नवीन जी का निधन 29 अप्रैल, 1960 ई. में हुआ था।
  • उर्मिला, कुंकुम,रश्मिरेखा, 'अपलक' और 'क्वासि'  प्रमुख कृतियां हैं।

भवानी प्रसाद मिश्र Bhawani Prasad Mishra

  • 29 मार्च, 1913 ई. टिगरिया गाँव, होशंगाबाद, मध्य प्रदेश
  • भवानी प्रसाद मिश्र का जन्म टिगरिया गांव में, होशंगाबाद (मध्य प्रदेश) में हुआ था।
  • 20 फरवरी सन् 1985 को निधन हुवा
  • भवानी प्रसाद मिश्र की प्रारंभिक शिक्षा क्रमश: सोहागपुर, होशंगाबाद, नरसिंहपुर और जबलपुर में हुई|
कृतियाँ
  • गीत-फ़रोश
  • चकित है दुख
  • गांधी पंचशती
  • अंधेरी कविताएँ
  • बुनी हुई रस्सी
  • व्यक्तिगत
  • ख़ुश्बू के शिलालेख
  • परिवर्तन जिए
  • त्रिकाल संध्या
  • अनाम तुम आते हो
  • इंदन मम्
  • शरीर, कविता, फसलें और फूल
  • मानसरोवर
  • दिन
  • संप्रति
  • नीली रेखा तकआदि कुल 22 पुस्तकें प्रकाशित हुईं।
सम्मान और पुरस्कार
  • सन् 1972 में आपकी कृति बुनी हुई रस्सीके लिए आपको साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला।
  • भारत सरकार का पद्म श्री अलंकार भी प्राप्त किया।
  • 1981-82 में उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान के संस्थान सम्मान से सम्मानित हुए 
  • 983 में उन्हें मध्य प्रदेश शासन के शिखर सम्मान से अलंकृत किया गया।
Download PDF File  Famous Personalities of Madhya Pradesh

Also Read...

MP KA ITIHAS { मध्य प्रदेश इतिहास के आईने में भाग 01 }

MP KA ITIHAS { मध्य प्रदेश इतिहास के आईने में भाग 02 }

MP Ka Itihas (मध्य प्रदेश का सम्पूर्ण इतिहास)

MP Ke Pramukh Abhilekh {मध्य प्रदेश के प्रमुख अभिलेख}

Madhya Pradesh Ke Pramukh Rajvansh {मध्य प्रदेश के प्रमुख राजवंश}

1857 Ki Kranti aur MP {1857 का स्वतंत्रता संग्राम व मध्य प्रदेश }

Swatantrata Andolan aur Madhya Pradesh ka Yogdan {मध्य प्रदेश का स्वाधीनता संग्राम में योगदान}

Important Fact Related to Madhya Pradesh {मध्य प्रदेश महत्वपूर्ण तथ्य }

Purana Madhya Pradesh पुराना मध्यप्रदेश {Old MP}

MP Ki Bhaugolik Sanranchna {मध्य प्रदेश: भौगोलिक सरंचना}

MP Ke Sambhag Aur Jile (म.प्र. में संभाग व जिले)

MP Vidhansabha GK {मध्य प्रदेश विधान सभा}

MP VIDHANSABHA KA ITIHAS { मध्यपदेश विधानसभा का इतिहास } 

Panchayati Raj in Madhya Pradesh {मध्य प्रदेश में पंचायत राज एवं ग्राम स्वराज }

MP Sahitya aur Sanskriti मध्यप्रदेश साहित्य एवं संस्कृति

MP Ke Darshniya Sthal मध्य प्रदेश के दर्शनीय स्थल

Madhya Pradesh ki Pramukh boliyan evam Lok natya {मध्य प्रदेश की बोलियाँ एवं लोकनाट्य}

MP KE LOK NRITYA {मध्य प्रदेश लोक नृत्य}

MP Lokgeet aur Lokgayan {मध्य प्रदेश के लोकगीत एवं लोक गायन}

MP Ke Samadhi Makbare {मध्य प्रदेश की प्रमुख समाधि स्थल एवं मकबरे}

MP KI GUFA मध्यप्रदेश की प्रमुख गुफाएँ

MP KE DURG KILE AUR MAHAL {मध्य प्रदेश के प्रमुख महल,मध्य प्रदेश के प्रमुख दुर्ग}

MP KE MELE { मध्यप्रदेश के मेले }

MP ke Pramukh Sahityakar (मध्यप्रदेश के प्रमुख साहित्यकार और उनकी रचनाएँ) 

No comments

Powered by Blogger.