MP Sahitya aur Sanskriti मध्यप्रदेश साहित्य एवं संस्कृति


मध्यप्रदेश साहित्य एवं संस्कृति

मध्यप्रदेश साहित्य एवं संस्कृति Madhya Pradesh Sahitya aur Sanskrit



मध्यप्रदेश के प्राचीन काल के साहित्यकार MP ke Prachin Kal ke Sahityakar
ऋषि अगस्त्य (वैदिक काल) सुतीक्षण, शरभंग, महाकवि कालिदास, सोमशंभु, भवभूति, दण्डी, नागर्जुन, मण्डन मिश्र, कवि गंगाधर, पृथ्वीधर, शशिधरकविराज ईशान, भास्कर भट्ट, वैद्य श्रीकृष्ण दण्डी, पुरूषदत्त आदि।

मध्य प्रदेश मध्यकाल के साहित्यकार MP Madhya Kal Ke Sahityakar
कुम्भनदास, चतुर्भुजदास, दामोदरदास, वक्षी हंसराज, हरिदास स्वामी, गजाधर भट्ट, गोलाचन्द्र मिश्र महाकवि बिहारी, केशवदास (ओरछा), पद्माकर (सागर), कृष्ण भट्ट, कुमार मणि, राजा छत्रसाल, लाल कवि, चिंतामणि, कवि भूषण, गोरे लाल पुरोहित आदि।
  
मध्यप्रदेश के आधुनिक काल के साहित्यकार 

जगन्नाथ प्रसाद, भानु विनायक राव, सुखराम चौबे गुणकर लोचन प्रसाद पाण्डेय, मुकुटधर पाण्डेय, कामता प्रसाद गुरू, रामेश्वर प्रसाद गुरू, माखन लाल चतुर्वेदी, सुभद्रा कुमारी चौहान, पं. द्वारिका प्रसाद मिश्र, केशव प्रसाद, पाठक, श्याम कांत पाठक, माधव राव सप्रे , रघुवर प्रसाद द्विवेदी, बाल मुकुन्द त्रिपाठी, बलदेव प्रसाद मिश्र, मातादीन शुक्ल, रामेश्वर शुक्ल अंचलडॉ. विनय मोहन शर्मा, सेठ गोविन्द दास, ऊषा देवी मिश्रा, डॉ. रामकुमार वर्मा, भवानी प्रसाद मिश्र, गजानन माधव मुक्ति बोध, प्रभाकर माचवे, गिरिजा कुमार माथुर, शिव मंगल सिंह, सुमन, सूर्य नारायण व्यास, हरिकृष्ण प्रेमी, जगन्नाथ प्रसाद मिलिन्द, बाल कवि बैरागी, वीरेन्द्र मिश्र, शरद जोशी, हरिशंकर परसाई, रमेश बख्शी, श्रीकान्त वर्मा, राजेन्द्र अवस्थी, दुष्यन्त कुमार, राम कुमार चतुर्वेदी, देवव्रत जोशी, डॉ. परशुराम विरही, श्री काली प्रसाद भटनागर विरही, मुकुट बिहारी सरोज, विद्यानंदन राजीव, डॉ. प्रभुदयाल अग्निहोत्री, दामोदर शर्मा, भगवान स्वरूप चैतन्य माणिक वर्मा, श्याम सलिल, राजकुमारी रश्मि, कविरत्न पाराशर, राजेन्द्र अनुरागी, ओम प्रभाकर, प्रभाकर श्रोतिय डॉ. महेन्द्र भटनागर, सत्यव्रत अवस्थी, महवीर प्रसाद शर्मा, ज्वाला प्रसाद जोशी, जगदीश प्रसाद स्थापक, मालती जोशी। प्रसून जोशी गीतकार इंदौर ।

मध्यप्रदेश के उर्दू साहित्यकार MP Ke Urdu Sahitya Kar

जानिसार अख्तर, जावेद अख्तर, राहत इन्दौरी, कैफ भोपाली, मंजर भोपाली, असद भोपाली, ताज भोपाली, वकील भोपाली, फैज रतलामी, शाहिद कबीर, महमूद नश्तरी, निदा फाजली, सुलेमान ईरानी, हयात हाशमी, शाहिद भोपाली, मकसूद भोपाली, जावेद अंजुम, डॉ. वशीर बद्र आदि।

मध्यप्रदेश साहित्य कला एंव संस्कृति से जुड़ी संस्थाएं 


भारत भवन Bharat Bhavan

स्थापना: 13 फरवरी 1982, वास्तुकार चार्ल्स कोरिया

उद्देश्य: सृजनात्मक कलाओं के राष्ट्रीय विकास, परिरक्षण, अन्वेषण, प्रसार-प्रचार एवं प्रोत्साहन हेतु भारत भवन न्यास अधिनियम 1982 के अंतर्गत स्थापित किया गया।
प्रमुख गतिविधियाँ: नगर लोक एवं आदिवासी कला के दो बड़े संग्रहालय, व्यावसायिक रंगमंच रंगमंडल‘, भारतीय भाषाओं का कविता पुस्तकालय और संग्रहालयवागर्थ‘, शास्त्रीय लोक एंव आदिवासी संगीत संग्रहालय अनहद। अन्तः प्रसाद में दो रंगशालाएँ अंतरंग और बहिरंग।

कालिदास अकादमी  Kalidas Academy 

स्थापना: उज्जैन में 1977 में की गई।

उद्देश्य: इसका उद्देश्य कालिदास साहित्य का विश्लेषणात्मक अनुशीलन, विभिन्न कला माध्यमों पर उसके समग्र प्रभवा का आकलन, कालिदास तथा संस्कृत की अन्य गौरवपूर्ण कृतियों का विश्व की भाषाओं में अनुवाद तथा प्रकाशन का कार्य करती है। 
म.प्र. सिन्धी साहित्य अकादमी, भोपाल  MP Sindhi Sahitya Acadamy 
स्थापना: 1983 
उद्देश्य: परिचर्चा, विचार गोष्ठी, व्याख्यान माला, मुशायरा, हिन्दी, सिन्धी, उर्दू, पंजाबी का एक मंच पर कविता, कहानी पाठ, सिन्धी नाट्य प्रस्तुति, लोकगीत, अनुदान, सिन्धी प्रतिनिधि का प्रकाशन, मोनोग्राफ अनुवाद कर्मशालाएँ।

मध्य प्रदेश कला परिषद MP Kala Parisad
स्थापना: 1952 
उद्देश्य: परिषद् राज्य की संगीत, नृत्य, नाटक और ललित कलाओं की राज्य अकादमी के रूप में कार्यरत है। 

मध्य प्रदेश उर्दू अकादमी भोपाल MP Urdu Academy 
स्थापना: 1976 
उद्देश्य: मध्य प्रदेश मं उर्दू साहित्य के प्रोत्साहन एवं संरक्षण हेतु अदीबों और शायरों, मुशायरा कराने वाला साहित्यिक संस्थाओं को सहयोग प्रदान करना किताबों की छपाई, उर्दू लाइब्रेरियों आदि को आर्थिक सहायता।

पुरातत्व, अभिलेखागार एवं संग्रहालय, मध्य प्रदेश  MP Puratatve Abhilekhagar
स्थापना: इस संग्रहालय की स्थापना वर्ष 1956 में की गई थी जबकि 1975 से स्थापित राजकीय अभिलेखागार संचालनालय का संविलियन 16 अगस्त 1994 में किया गया।
उद्देश्य: इस संचालनालय का मुख्य कार्य प्रदेश भर में बिखरी पड़ी हुई पुरातत्विक सम्पदा का सर्वेक्षण, चिन्हांकन, संरक्षण, प्रदर्शन एवं अनुसरण करना है। 

रवीन्द्र भवन, भोपाल  Ravidnra Bhavan
उद्देश्य: भारत के सर्वश्रेष्ठ नाट्य गृहों में से एक है। प्रशासनिक दृष्टि से यह भवन राजभाषा एवं संस्कृति संचालनालय के अंतर्गत कार्यरत है। 
रवीन्द्र भवन में दो रंगमंच हैं। एक सभागृह के भीतर अंतः रंगमंच और दूसरा बाहर  का खुला रंगमंच।

मध्य प्रदेश तुलसी अकादमी भोपाल MP Tulsi Academy 
स्थापना: 1987 
उद्देश्य: संस्कार अभियान, मंगलाचरण, लोकमंगल, जनरंजन, लोकयात्रा, तुलसी-उत्सव, तुलसी शोध संस्थान, शोध सर्वे और पाण्डुलिपि संग्रह।

मध्य प्रदेश हिन्दी ग्रंथ अकादमी, भोपाल  MP Hindi Granth Acaddemy
स्थापना: अकादमी की स्थापना 1969 में हुई थी।
उद्देश्य: उच्च शिक्षा में माध्यम परिवर्तन के उद्देश्य से स्थापित इस संस्था का कार्य हिन्दी में विश्वविद्यालय पाठयक्रम के लिए पाठ्य एवं संदर्भ सामग्री उपलब्ध कराना है।

मध्य प्रदेश की साहित्य परिषद, भोपाल MP Sahitya Parisad
स्थापना: 1954
उद्देश्य: प्रदेश में हिन्दी साहित्य के प्रोत्साहन संरक्षण हेतु नये रचनात्मक एवं आलोचनात्मक साहित्य का प्रकाशन, साहित्य सम्मेलन, परिचर्चा गोष्ठियाँ।

Also Read....

No comments

Powered by Blogger.