MP KE DURG KILE AUR MAHAL {मध्य प्रदेश के प्रमुख महल,मध्य प्रदेश के प्रमुख दुर्ग}

मध्य प्रदेश के प्रमुख महल,मध्य प्रदेश के प्रमुख दुर्ग

मध्य प्रदेश प्रमुख दुर्ग व किले एवं महल 

Madhya Pradesh Durg Kile evam Mahal



नाम/स्थल - ग्वालियर, दुर्ग 
निर्माणकर्ता - राजा सूरजसेन 
वर्ष/निर्माण काल - 525 ई.
उल्लेखनीय तथ्य - 5 द्वारः आलमगीर दरवाजा, हिन्डोला दरवाजा, गूजरी महल दरवाजा, चतुर्भुज मंदिर दरवाजा और हाथी फौड़ दरवाजा। इसे किलों का रत्नन या जिब्राल्टर ऑफ इण्डिया कहा जाता है। 
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
नाम/स्थल - धार का किला 
निर्माणकर्ता - सुल्तान मो.तुगलक पुर्निर्माण 
वर्ष/निर्माण काल - 1344 ई. 
उल्लेखनीय तथ्य - किले में खरबूजा महल है। अब्दुल शाह चंगश का मकबरा है।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

नाम/स्थल - असीरगढ़ का किला 
निर्माणकर्ता - आसा (अहीर राजा) 
वर्ष/निर्माण काल - 10वीं शताब्दी (संभवतः)
उल्लेखनीय तथ्य - आशा देवी की प्रतिमा व मंदिर स्थित है 11वीं शताब्दी में निर्मित एक प्राचीन शिव मंदिर भी है।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

नाम/स्थल - चंदेरी का किला 
निर्माणकर्ता - प्रतिहार नरेश कीर्तिपाल 
वर्ष/निमार्ण काल - 11वीं शताब्दी 
उल्लेखनीय तथ्य - किले में जौहर कुण्ड, हवा महल, नौखण्डा, तथा खूनी दरवाजा  स्थित है।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

नाम/स्थल - गिन्नौरगढ़ दुर्ग 
निमार्णकर्ता - महाराजा उदयवर्मन
वर्ष/निर्माण काल - 13वीं शताब्दी 
उल्लेखनीय तथ्य - किले के निकटवर्ती क्षेत्र में तोते बहुत पाए जाते है।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

नाम/स्थल - (रायसेन दुर्ग से 60 किमी. दूर) 
निर्माणकर्ता - राजा राजबंसती 
वर्ष/निमार्ण काल - 16वीं शताब्दी 
उल्लेखनीय तथ्य - दुर्ग में बादल महल, राजा रोहित महल और इत्रदार महल स्थित हैं। यहाँ किले के अंदर एक दरशाह स्थित है।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

नाम/स्थल - बांधवगढ़ का किला (उमरिया स्टेशन से 30 किमी. ) 
निर्माणकर्ता - बघेलखण्ड के राजाओं द्वारा (व्याघ्रदेव)
वर्ष/निमार्ण काल - 14वीं शताब्दी 
उल्लेखनीय तथ्य - सोलहवीं- सत्रहवीं शताब्दी में बघेलखण्ड के राजा विक्रमादित्य ने अपनी राजधानी बांधवगढ़ से रीवा स्थानांतरित की। यहाँ पर शेषशाही तालाब है तथा विष्णु जी का मंदिर है।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

नाम/स्थल - अजयगढ़ का किला, (पन्ना नगर से 34 किमी. दूर उत्तर में)
निमार्णकर्ता - राजा अजयपाल 
वर्ष/निर्माण काल - 18वीं शताब्दी (पुनर्निर्माण)
उल्लेखनीय तथ्य - इसी किले में राजा अमन का महल है। यहाँ पर पत्थर पर नक्काशी की गई है।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

नाम/स्थल - ओरछा दुर्ग निवाडी जिला 
निमार्णकर्ता - राजा वीर सिंह  बुंदेला  
वर्ष/निर्माण काल - 16वीं शताब्दी
 उल्लेखनीय तथ्य - चतुर्भुज मंदिर, राम मंदिर तथा लक्ष्मी नारायण मंदिर इसी किले में है। जहाँगीर महल भी इसी किले में है।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

नाम/स्थल - मण्डला का दुर्ग
निर्माणकर्ता - राजा नरेन्द्र शाह (गोंड नरेश)
वर्ष/निमार्ण काल - 16वीं शताब्दी 
उल्लेखनीय तथ्य - मण्डला के किले में राज राजेश्वरी की स्थापना निजाम शाह ने कराई थी।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

नाम/स्थल - मंदसौर का किला/मंदसौर 
निर्माणकर्ता - अलाउद्दीन खिलजी  
वर्ष/निर्माण काल - 14वीं शताब्दी 
उल्लेखनीय तथ्य - यहाँ 500 वर्ष पुराना तापेश्वर महादेव का मंदिर है।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

नाम/स्थल - नरवर का किला 
निर्माणकर्ता - राजा नल 
वर्ष/निर्माण काल - शिवपुरीmadhyapradesh
उल्लेेखनीय तथ्य - इस किले का कछवाहों, तोमरों और जयपुर के राज-घरानों से संबंध रहा है।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------


 MP के प्रमुख महल  Madhya Pradesh ke pramukh mahal


महल का नाम - गूजरी महल 
स्थान - ग्वालियर 
विशिष्ट तथ्य - ग्वालियर दुर्ग स्थित गूजरी महल का निर्माण राजा मानसिंह तोमर ने अपनी प्रेयसी मृगनयनी के लिए कराया था।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

महल का नाम - मोती महल 
स्थान - ग्वालियर 
विशिष्ट तथ्य - जीवाजी राव का संुदर महल। यहाँ म.प्र. का ए.जी. ऑफिस था।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

महल का नाम - जय विलास महल 
स्थान - ग्वालियर 
विशिष्ट तथ्य - जीवाजी राव सिंन्धिया का निवास। यहाँ का संग्रहालय प्रसिद्ध है। यह पाश्चत्य नमूने का बना है।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

महल का नाम - बघेलिन महल 
स्थान - मण्डला 
विशिष्ट तथ्य - मोती महल के पूर्व में 3 किमी. दूर नर्मदा के किनारे निर्मित।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
महल का नाम - मदन महल 
स्थान - जबलपुर 
विशिष्ट तथ्य - मदन शाह (गौंड राजा) ने 1200 ई. में निर्मित कराया।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

महल का नाम - खरबूजा महल 
स्थान - धार 
विशिष्ट तथ्य - धार के किले में निर्मित इस महल के ऊपर से संपूर्ण नगर दिखाई देता है।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

महल का नाम - राजा रोहित का महल 
स्थान - रायसेन 
विशिष्ट तथ्य - रायसेन दुर्ग में स्थित, राजा राजबसंती द्वारा निर्मित।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

महल का नाम - बादल महल 
स्थान - रायसेन 
विशिष्ट तथ्य - राजबसंती द्वारा निर्मित रायसेन दुर्ग में।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
महल का नाम - इत्रदार महल 
स्थान - रायसेन 
विशिष्ट तथ्य - रायसेन दुर्ग में स्थित।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

महल का नाम - हवा महल 
स्थान - मुंगावली स्टेशन से 38 किमी. दूर 
विशिष्ट तथ्य -चंदेरी के किले में स्थिति जिसे प्रतिहार राजा कीर्तिपाल ने 11वीं शताब्दी में बनवाया था।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

महल का नाम - नौखण्डा महल 
स्थान - मुंगावली स्टेशन से 38 किमी. दूर 
विशिष्ट तथ्य - प्रतिहार राजा कीर्तिपाल द्वारा 11वीं शताब्दी में निर्मित।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
महल का नाम - राजा अमन महल
स्थान - अजयगढ़ (पन्ना)
विशिष्ट तथ्य - राजा अजयपाल द्वारा निर्मित पत्थर में बारीक सजीव पच्चीकारी।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

महल का नाम - जहाँगीर महल 
स्थान - ओरछा 
विशिष्ट तथ्य - जहाँगीर ने ओरछा के दुर्ग में इसका निर्माण करवाया था।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

महल का नाम - अशरफी महल 
स्थान - माण्डू 
विशिष्ट तथ्य - यह महल कटोरी की भाँति बना है तथा अफगानों की कला का भव्य नमूना है।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

महल का नाम - दाई का महल 
स्थान - माण्डू
विशिष्ट तथ्य - महत्वपूर्ण कलाकृतियों हेतु चर्चित है।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

महल का नाम - रानी रूपमती का महल 
स्थान - माण्डू 
विशिष्ट तथ्य - बाज बहादुर की प्रेयसी रानी रूपमती इस महल से पवित्र नर्मदा के दर्शन करती थी।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

महल का नाम - राम राजा मंदिर 
स्थान - ओरछा 
विशिष्ट तथ्य - राजा वीर सिंह जुदेव के द्वारा निर्मित।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

महल का नाम  - मोती महल 
स्थान - मण्डला 
विशिष्ट तथ्य - बघेलिन महल के पश्चिम में तीन किमी. दूर स्थित है।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------


No comments

Powered by Blogger.