Purana Madhya Pradesh पुराना मध्यप्रदेश {Old MP}

Old MP in Hindi

स्वतंत्रता के बाद मध्य प्रदेश

Swatantrata ke baad madhya pradesh

  • स्वतंत्रता के पूर्व देश के दूसरे क्षेत्रों की तरह आज के मध्यप्रदेश के तौर पर जाने वाला भू-भाग रियायती एवं ब्रिटिश शासन के अधीन प्रशासित था। स्वतंत्रता के पश्चात् इसी आधार पर राज्यों का निर्माण हुआ। 
  • सबसे पहले भाग-ए प्रांत थेजिसमें ब्रिटिश भारत के सारे सूबे शामिल थे। फिर भाग-बी राज्य थेजिसमें देशी रियासतों को मिलाकर बनाए गए प्रांत आते थे। फिर भाग-सी के राज्य थे जिन पर केन्द्र पर शासन होता था। इस तरह देश की आजादी के बाद आज के मध्य प्रदेश भू-भाग को समेटने वाले क्षेत्रों में चार राज्य भोपालमध्य भारतविंध्य प्रदेश और विंध्य प्रदेश अस्तित्व में आए। इनमें भोपाल भाग-सी राज्य थामध्य  भारत भाग-बी राज्य था और मध्य प्रदेश और विंध्य प्रदेश (पुराना) भाग-ए राज्य था। 1 जनवरी, 1950 को विंध्य प्रदेश को भाग -सी राज्य का का दर्जा दिया गया। ये राज्य और उनकी राजधानियाँ इस प्रकार थीं:
राज्यराजधानी
  • भोपाल (भाग-सी राज्य) - भोपाल
  • मध्य भारत (भाग-बी राज्य) - इंदौर, ग्वालियर
  • विंध्य प्रदेश (भाग-सी राज्य) - रीवा
  • मध्य प्रदेश (पुराना) (भाग-ए राज्य) - नागपुर
भोपाल (भाग-सी राज्य) - भोपाल  Bhopal Bhag C Rajya
  • भोपाल राज्य अंग्रेजों के भारत छोड़ने पर भोपाल केन्द्र शासित राज्य हो गया। 1 जून, 1949 को भारत सरकार ने इसे अपने अधीन कर लिया। श्री एन.बी.बैनर्जी यहाँ के मुख्य आयुक्त नियुक्त हुए। 1952 को प्रजा द्वारा निर्वाचित प्रतिनिधियों ने भोपाल का शासन सूत्र संभाला मुख्यमंत्री डॉ. शंकरदयाल शर्मा बने। भोपाल राज्य रायसेन व सीहोर दो जिलों में विभाजित था।
मध्य भारत Madhya Bharat

  • स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात् हुए 600 राज्यों के एकीकरण में मध्यभारत भी था।
  • 22 अप्रैल, 1948 को इस प्रदेश की 22 रियासतों के नरेशों ने इस अनुबंध पर हस्ताक्षर किए। ग्वालियर व इंदौर को संयुक्त रूप से राजधानी बनाया गया। साढ़े छह माह ग्वालियर व साढ़े पाँच माह इंदौर राजधानी। 1948-46 की अवधि में मध्य भारत राज्य का प्रशासन निर्वाचित मंत्रिमण्डल द्वारा किया जाता रहा। 
  • प्रथम निर्वाचित मंत्रिमण्डल के प्रधान लीलाधर जोशी थे। 
  • राज्यों के पुनर्गठन के समय तखतमल जैन मुख्यमंत्री थे (1956)। 
  • मध्य भारत में ग्वालियर व इंदौर में उच्च कोटि के हवाई अड्डे थे। 26 जुलाई, 1984 को इंदौर से ग्वालियर, दिल्ली और मुंबबई के लिए विमान सेवाएँ प्रारंभ की गई थी।
  • माधव सागर (तिगरा-ग्वालियर) जलयान के लिए उपयोगी स्टेशन था। 
  • मध्य भारत का समृद्ध तथा उन्नत प्रदेश, सांस्कृतिक क्षेत्र में प्राचीनकाल से ही साहित्य, शिक्षा और कला केन्द्र रहा है। यहाँ की महिष्मति, उज्जैयिनी और धार नगरी ने भारतीय इतिहास का वह स्वर्ण युग देखा है जब यहाँ के प्रतिनिधि कवियों ने अपने काव्य से विश्व साहित्य को समृद्ध किया।
  • किंग एडवर्ड हॉस्पिटल मेडिकल स्कूल, जो 1878 से चला आ रहा था, को जुलाई 1948 में महात्मा गाँधी स्मारक चिकित्सा महाविद्यालय, इंदौर के रूप में परिवर्तित कर दिया गया। इसका शिलान्यास जून 1948 में भारत सरकार की तत्कालीन स्वास्थ मंत्री राजकुमारी अमृत कौर द्वारा किया गया था।
  • 1951 में स्थापित पी.एम.बी. गुजराती कॉलेज इंदौर, 1954 में स्थापित गोविन्दराम सेक्सरिया प्रौद्योगिकी संस्था इंदौर तथा 1955 में स्थापित पशु चिकित्सा विज्ञान तथा पशुपालन एवं पशुधन गवेषणा संस्था, महू, मध्यभारत में स्थापित उच्च क्षिक्षा के क्षेत्र की अन्य प्रमुख संस्थाएँ थीं।
  • मध्य भारत में स्थित बाघ गुफाओं के भित्ति चित्रों ने भारतीय चित्रकला को गौरवान्वित किया। 
  • मध्य भारत के चित्रकारों ने उस परंपरा को अक्षुण्ण बनाए रखने का प्रयत्न किया है। श्री पावलकर, श्री पी.नियोगी, देवलालीकर, मनोहर सिंह जोशी, उमेश कुमार श्रीवास्तव, भांड, देवकृष्ण जोशी, रूद्रहान और चन्द्रेश सक्सेना आदि का चित्रकला के क्षेत्र में प्रमुख स्थान रहा।
  • संगीत के क्षेत्र में मध्य भारत निःसंदेह अद्वितीय रहा। उदयन, देवसेना, रूपमति और मानसेन की स्वरलहरी तथा अकबर के नवरत्नों में एक तानसेन की ध्रुपद शैली विख्यात है। बाबा दीक्षित, वासुदेव बुआ जोशी, शंकर राव पंडित आदि अपने शास्त्रीय संगीत के कारण प्रसिद्ध थे। ग्वालियर के संगीतकारों में कृष्णराव पंडित, राजा भैया पूँछवाले, सप्तर्षिबंधु का नाम उल्लेखनीय है। आधुनिक संगीतज्ञों में इंदौर के रहीमुद्दीन का नाम मुख्य है। सरोदवादन के उस्ताद हाफिज अली खाँ भी संगीतज्ञों में उच्च स्थान पर रहे हैं। बीनकार बन्दे अली खाँ उनके शिष्य मुराद खाँ और मुराद खाँ के शिष्य बाबू खाँ बीनकारी के उस्ताद थे (इंदौर)।
  • नाना साहेब आप्टे ख्याति प्राप्त ध्रुपद गायक थे। डारगबंधु, नासिरूद्दीन खाँ डागर तथा रहीमुद्दीन डागर शास्त्रीय संगीत की इस मधुर तथा दुर्लभ शैली के महान गायक माने जाते हैं। मराठी के प्रसिद्ध अभिनेता
  • संगीतज्ञ मास्टर दीनानाथ इंदौर के निवासी थे। उनकी पुत्रियां लता मंगेशकर और आशा भाँसले श्रेष्ठ पार्श्व गायिका हैं।
विंध्य प्रदेश Vindhya Pradesh

विंध्य प्रदेश प्रमुख राजकीय सत्ताओं से मिलकर बना था। ये थीः
  • 1. बघेल राजसत्ता,
  • 2. बुंदेलखण्ड राजसत्ता,
बघेलखण्ड एवं  बुंदेलखण्ड Baghel Khand evam Bundel Khand
  • बघेलखण्ड के इतिहास का प्रारंभ वि.सं. 1234 से शुरू होता है, जब गुजरात के सोलंकी राजा व्याघ्रदेव ने रीवा आकर बघेल राज्य की नींव डाली।
  • बघेलखण्ड भू-भाग में रीवा, सोहावल, कोटी, नागौदा और मैहर राज्य शामिल थे।
  • काशी के गहरवारों से संबद्ध राजा वीरभद्र ने वि.सं. 1928 में पिता हेमकरन की मृत्यु के बाद अटेर नामक स्थान पर बुंदेल राजवंश की नीव डाली। इसी वंश के सोहनपाल के वंशज मलखान सिंह ने परिहारों की प्राचीन राजधानी ओरछा को छीनकर वि.सं. 1558 में ओरछा में अपनी राजधानी बनाई।
  • जिस समय बुंदेलखण्ड पर अंग्रेजों का आधिपत्य स्थापित हुआ, उस समय बंुदेलखण्ड में छोटी-बड़ी कुल 43 रियासतें और जागीरें थी। इसमें ओरछा, दतिया, पन्ना, खनियाधाना, गरौली, अठभैया जागीर (ढुरवई, विजना, बंका-पहाड़ी, टोरी, फतेपुर), बीहट, चरखारी, अजयगढ़, जसो, बिजावर, सरीला, जिगनी, लुगासी, सम्भर, छतरपुर, अलीपुरा, नौगाँव-रिबई, बेरी, बरौछा, गौरिहार, बामनी, चौबे जागीरों (पालदेव,पहरा, तरौन, भैसौधा, कामता, रजौला) मुख्य थीं।
  • 1947 में भारत की स्वतंत्रता के बाद बुंदेलखण्ड और बघेलखण्ड की 35 रियासतों ने संयुक्त राज्य विंध्य प्रदेश निर्माण के संकल्प पत्र पर मार्च 1948 में हस्ताक्षर किए। सर्वप्रथम इस राज्य को रीवा तथा बुंदेलखण्ड दो इकाइयों के रूप में रखा गया, जिसके राजप्रमुख रीवा के महाराज मार्तण्ड सिंह जी देव नियुक्त हुए। कप्तान अवधेश प्रताप सिंह एवं श्री कामता प्रसाद सक्सेना के नेतृत्व में बघेलखण्ड (रीवा) एंव बंुदेलखण्ड में मंत्रिमण्डल बने। जुलाई 1948 में दोनों सरकारों को संयुक्त कर एक मंत्रिमण्डल की स्थापना की गई। इसके प्रधानमंत्री कप्तान अवधेश प्रताप सिंह बने।
  • अंततः 1 जनवरी, 1950 में विंध्य प्रदेश प्रशासित भाग सी स्टेट बन गया। 25 जनवरी, 1950 को विंध्य प्रदेश की द्वीपवत् इकाइयाँ (दतिया जिले को छोड़कर) उत्तर प्रदेश मध्य भारत और मध्य प्रदेश को हस्तांतरित कर दी गई। 1952 में विंध्य प्रदेश में 60 में प्रतिनिधियों की निर्वाचित सभा बनी तथा 2 अप्रैल, 1952 को लोकप्रिय मंत्रिमण्डल स्थापित हुआ, जिसके मुख्यमंत्री पं. शंभुनाथ शुक्ल हुए।
  • विंध्यगिरि की पहाडि़यों में स्थित होने के कारण इस प्रदेश का नाम विंध्य प्रदेश पड़ा। सोनटोन्सकेनधसानबेतवा तथा सिन्धु प्रदेश की प्रमुख नदियाँ थींजिनका बहाव दक्षिण से उत्तर की ओर था। प्रपातों की अधिकता के कारण विंध्य प्रदेश को लोग प्रपातों का प्रदेश भी कहते थे। नर्मदा से कपिल धारातमस नदी सहायक बीहड़ का चचाईमुहाना का क्योंटीओड्डा का बहुतीकेन का पांडव प्रपात और स्नेह केन की सहायता किलकिला का कौआ सेहा‘ और समुआ का ‘ छोटे पांडव ‘, जामुने की सहायता‘ जमड़ार का ‘ कुंडेश्वर‘ तथा सिंध्य का ‘ सनकुआ‘ मुख्य प्रपात थे।
  • विंध्य प्रदेश की राजधानी रीवा थी तथा नौगाँव में भी कई मुख्य कार्यालय थे।

मध्य प्रदेश (पुराना) (भाग-ए राज्य) - नागपुर Bhag A rajya Nagpur
  • स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद किए गए राज्यों के वर्गाीकरण में सी.पी.एण्ड बरार में महाकौशल व छत्तीगढ़ की रियासतें मिलाकर मध्य प्रदेश राज्य का गठन किया गया। इसकी राजधानी नागपुर रखी गई। 1950 में इसका नामकरण मध्य प्रदेश कर इसे भाग ए-राज्यों में शामिल किया गया । नर्मदा, ताप्ती, वर्धा, वेनगंगा यहाँ की प्रमुख नदियाँ थीं। 
  • प्रथम पंचवर्षीय योजना के कार्यान्वित होने के पूर्व यहाँ 35 बड़े व 87 छोटे सिंचाई कार्य चालू किये थे, बालाघाट जिले की मुरम तालाब योजना और छिंदवाड़ा जिले की चीचबंद तालाब योजनाओं का कार्य सन् 1951 के पहले ही समाप्त हो चुका था।
  •  संपूर्ण देश में लाख व चमड़ा उत्पादन की दृष्टि से मध्य प्रदेश का आंशिक रूप से एकाधिकार था। लाख मुख्यतः घोंट, पलाश और मुसुम जंगली  वृक्षों से, जो क्रमशः दमोह, गोंदिया और धमतरी में अधिकांशतः पाए जाते थे, काफी मात्रा में एकत्रित की जाती थी। गोंदिया, धमतरी और रायगढ़ के लाख व चमड़े के कारखानों में उससे चमड़ा तैयार किया जाता था। 
  • राज्य में लोहा प्राप्ति के मुख्य क्षेत्र जबलपुर और होशंगाबाद (नरसिंहपुर ) जिलों में स्थित थे। मैंग्रीज उत्पादन की दृष्टि से यह राज्य न केवल भारतवर्ष में ही वरन् समस्त विश्व में प्रख्यात था। बाक्साइट के संचय मुख्य जबलपुर जिले की कटनी तहसील में, बालाघाट जिले की बैहर तहसील में पाए जाते थे। 
  • चूने का पत्थर निकालने का काम मुख्यतः जबलपुर होता था। टेल्क, जबलपुर, फायर-क्ले जबलपुर जिला व फेल्सपार मुख्यतः छिंदवाड़ा जिले में पाया जाता था। 
  • सूती कपड़े का उद्योग पुराने मध्य प्रदेश का सबसे प्रमुख उद्योग माना जाता था। यहाँ इस उद्योग के पनपने का सबसे बड़ा कारण राज्य के विस्तृत कपास क्षेत्र थे। सम्पूर्ण बराड़, बिमाड़ जिला वर्धा जिला, नागपुर जिला, भण्डरा जिले का पूर्वाीय क्षेत्र तथा चांदा जिले का उत्तरी क्षेत्र कपास उत्पादन के लिये प्रसिद्ध था। मध्य प्रदेश के इतिहास में सूती कपड़े की मिलों का स्वर्णिम अध्याय खोलने का श्रेय सर जमशेद जी टाटा को था।  
  • सीमेंट उद्योग: मध्य प्रदेश का दूसरा प्रमुख उद्योग सीमेंट उद्योग था। 1914 मेें मध्य प्रदेश में कटनी सीमेंट एण्ड इंडस्ट्रियल कंपनी की स्थापना हुई। नेपा मिल्स (निमाड़ जिला) का उत्पादन कार्य भी जनवरी 1955 से प्रारंभ हो गया था। कागज उत्पादन करने वाली यह भारत की एकमात्र एवं प्रथम मिल थी।
  • सहकारिता - भारतवर्ष में अन्य भागों में जब सहकारिता लोगों के लिए एक पहेली थी, तब मध्य प्रदेश में सहकारी समिति की स्थापना हो चुकी थी।
  •  देश में सहकारिता आंदोलन के प्रारंभ होने (25 मार्च, 1904) से दो वर्ष पूर्व ही होशंगाबाद जिले की पिपरिया नामक स्थान पर प्रथम सहकारी समिति की स्थापना हो चुकी थी।
  • देश की तत्कालीन परिस्थितियों को दृष्टि में रखते हुए मई 1952 को राज्य सरकारों के परामर्श से सामुदायिक विकास योजना स्वीकृत की गई थी।
  • 2 अक्टूबर, 1952 को देश भर में 55 विकास योजनाएँ प्रारंभ की गईं थीं। राष्ट्रीय स्तर पर प्रारंभ की गई इस योजना का उद्घाटन 1952 में मध्य प्रदेश में भी, महात्मा गाँधी की जन्मतिथि 2 अक्टूबर से अमरावती, बस्तर, होशंगाबाद व रायपुर में विकास केन्द्रों की स्थापना से हुआ।
  •  तत्पश्चात् वर्ष 1953 में 4 और विकास केन्द्र बालाघाट, बुलढाना, जबलपुर और मंडला जिलों में स्थापित किये गये।
राज्य पुनर्गठन आयोग की सिफारिश Rajya Punargathan Ayog ki Sifaris
  • राज्य पुनर्गठन आयोग की सिफारिश के आधार पर 1956 में गठित किये गए मध्य प्रदेश राज्य में पुराने मध्य प्रदेश का अधिकांश भाग भी शामिल किया गया था। 
  • देश में भाषा के आधार पर राज्यों के पुनर्गठन की माँग स्वतंत्रता से पहले ही शुरू हो चुकी थी। भारत के प्रमुख राजनीतिक दल कांग्रेस द्वारा भाषा के आधार पर राज्यों के पुनर्गठन का विरोध किया एवं प्रशासनिक सुविधा के आधार पर राज्यों के पुनर्गठन की संस्तुति की थी। आयोग की सिफारिशों का तीव्र विरोध हुआ, लेकिन कांग्रेस के जयपुर अधिवेशन में जवाहरलाल नेहरू, लल्लभ भाई पटेल एवं पट्टाभिसीतारमैया की की समिति ने दर आयोग के पक्ष में निर्णय दिया, समिति की रिपोर्ट के प्रकाशन के बाद भाषायी आधार पर राज्यों के पुनर्गठन के समर्थकों ने आंदोलन तेज कर दिया। माँग के समर्थन में आमरण अनशन पर बैठे तेलुगू पोट्टी श्री रामुल्लू की 52 दिन बाद 15 दिसंबर, 1852 को मौत हो गई। 19 दिसंबर, 1952 को प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने तेलुगू भाषियों के लिए पृथक् आंध्र प्रदेश राज्य के गठन की घोषणा कर दी और 1 अक्टूबर, 1953 को गठित आंध्र प्रदेश भाषा के आधार पर गठित होने वाला देश का पहला राज्य बन गया।
  • अंततः केन्द्र सरकार ने 22 दिसंबर, 1953 को तीन सदस्यीय राज्य पुनर्गठन आयोग को गठन किया। आयोग के अध्यक्ष न्यामूर्ति फजल अली तथा सदस्य के. एस. पाणिक्कर व हृदयनाथ कुंजरू थे आयोग ने 30 दिसंबर, 1955 को अपनी रिपोर्ट केन्द्र सरकार को सौंप दी। आयोग की सिफारिशों के आधार पर पार्ट ए.,बी., डी. के वर्गीकरण को समाप्त कर भारतीय संघ को 16 राज्यों व 3 संघ राज्य क्षेत्रों में बाँटा गया। इसमें से एक राज्य मध्य प्रदेश था। इस प्रकार 1 नवंबर, 1956 को नए  आकार में मध्य प्रदेश का पुनः सृजन हुआ। नए मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल रखी गई। उसकी भौगोलिक स्थिति 18° से 26°30‘ उत्तरी अक्षांश तथा उत्तरी अक्षांश तथा 74° से 84°30‘ पूर्वी देशांतर थी। इसका क्षेत्रफल 4,43,446 वर्ग किलोमीटर था, जो देश के क्षेत्रफल का सबसे बड़ा राज्य बना। 1956 में मध्य प्रदेश में 43 जिले थे। 1972 में भोपाल और राजनांदगाँव को जिला बनाया गया, इससे जिलों की संख्या 45 हो गई। सिंहदेव व दुबे आयोग की अनुशंसा पर 16 नए जिलों का गठन हुआ, लेकिन 1 नवंबर, 2000 को छत्तीसगढ़ पृथक् राज्य बना और 16 जिले छत्तीसगढ़ का भाग बने। 

No comments

Powered by Blogger.