शंघाई सहयोग संगठन के बारे में जानकारी | SCO Kya hai

 

शंघाई सहयोग संगठन के बारे में जानकारी 

शंघाई सहयोग संगठन के बारे में जानकारी


शंघाई सहयोग संगठन परिचय

  • मध्य एशिया में सुरक्षा चिन्ताओं के परिप्रेक्ष्य में पारस्परिक सहयोग बढ़ाने के उद्देश्य से शंघाई फाइव नाम से एक समूह की स्थापना रूस, चीन, किर्गिस्तान, कजाखस्तान व ताजिकिस्तान द्वारा अप्रैल 1996 में शंघाई में की गई थी. यह पाँचों देश ही शंघाई-फाइव के संस्थापक राष्ट्र थे.
  • मॉस्को (रूस) बाद में 2001 में उज्वेकिस्तान को इस समूह में शामिल किया गया तथा इसका नाम भी शंघाई सहयोग संगठन किया गया.
  • भारत व पाकिस्तान को 9 जून, 2017 से इस संगठन का सदस्य बनाया गया था, जिससे एससीओ के सदस्यों की कुल संख्या 8 हो गई थी. उससे पूर्व भारत व पाकिस्तान को इस संगठन में पर्यवेक्षक का दर्जा प्राप्त था.
  • मंगोलिया को 2004 से, ईरान को 2005 से, अफगानिस्तान को 2012 से तथा बेलारूस को 2015 से पर्यवेक्षक का दर्जा प्रदान किया गया है. आर्मेनिया, अजरबेजान, कम्बोडिया, नेपाल, श्रीलंका व टर्की को वार्ता भागीदार (Dialogue Partner) का दर्जा इस संगठन में प्राप्त है.
  • शंघाई सहयोग संगठन के अस्तित्व में आने के पश्चात् उसका पहला ही विस्तार 2017 में हुआ था, जिसके तहत् भारत व पाकिस्तान को इसका सदस्य बनाया गया था.

Also Read...

संयुक्त राष्ट्र संघ सामान्य ज्ञान


भारत व पाकिस्तान को एससीओ का सदस्य बनाने का फैसला जुलाई 2015 में रूस में ऊफा (Ufa) में संगठन के 15वें शिखर सम्मेलन में ही कर लिया गया था तथा विभिन्न औपचारिकताओं के पश्चात् यह सदस्यता 9 जून, 2017 से ही प्रभावी हुई थी. आर्थिक सहयोग, ऊर्जा के क्षेत्र में साझेदारी तथा सांस्कृतिक, वैज्ञानिक सहयोग को बढ़ावा देने के साथ-साथ आतंकवाद, अलगाववाद, उग्रवाद व नशीले पदार्थों की तस्करी के विरुद्ध संघर्ष इस संगठन के उद्देश्यों में शामिल है.

शंघाई सहयोग संगठन (SCO) के सदस्य देशों की कुल जनसंख्या विश्व की कुल जनसंख्या का लगभग 50 प्रतिशत, कुल भूभाग विश्व के कुल भूमि का 22 प्रतिशत तथा इनकी अर्थव्यवस्था का कुल आकार वैश्विक अर्थव्यवस्था का 20 प्रतिशत है.


नवम्बर 2020 के 20वें शिखर सम्मेलन की समाप्ति के साथ ही एससीओ की क्रमानुसार आने वाली अध्यक्षता अब ताजिकिस्तान के पास आ गई है. जहाँ अगला 21वाँ शिखर सम्मेलन 2021 में प्रस्तावित है.

शंघाई सहयोग संगठन के शिखर सम्मेलन


वर्ष

आयोजन स्थल

2001

शंघाई (चीन)

2002    

सेंट पीटर्सबर्ग (रूस)

2003

मास्को रूस 
2004

ताशकंद (उज्वेकिस्तान)

2005 अस्ताना (कजाखस्तान)
2006

शंघाई (चीन)

2007

बिश्केक (किर्गिस्तान)

2008

दुशांबे (ताजिकिस्तान)

2009

येकाटेरिनबर्ग (रूस)

2010

ताशकंद (उज्वेकिस्तान)

2011

अस्ताना (कजाखस्तान)

2012

बीजिंग (चीन)

2013

बिश्केक (किर्गिस्तान)

2014

दुशांबे (ताजिकिस्तान)

2015

ऊफा (Ufa) (रूस)

2016

ताशकंद (उज्वेकिस्तान)

2017

अस्ताना (कजाखस्तान)

2018

किंगदाओ (चीन)

2019

बिश्केक (किर्गिस्तान)

2020

रूस की मेजबानी में

वर्चुअल मोड में सम्पन्न

2021

दुशांबे (ताजिकिस्तान) में प्रस्तावित

2022

समरकंद (उज्वेकिस्तान) में प्रस्तावित


Also Read.....

No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.