MP ka parmar vansh परमार वंश मध्यप्रदेश का इतिहास


  परमार वंश  मध्यप्रदेश का इतिहास

परमार वंश Parmar Vansh मध्यप्रदेश का इतिहास 

  •  स्थापना उपेन्द्र कृष्णराज ने की जो प्रतिहारों तथा राष्ट्र-कुटों के अधीन सामंत थे।
  • प्रथम स्वतंत्रता शासक सिमुक (श्रीहर्ष) था।
  • इस वंश का प्रसिद्ध राजा भोज था, राजधानी धार बनाई।
  • राजा भोज ने भोजताल (भोपाल), सरस्वती मंदिर (धार) का निर्माण करवाया। (संस्कृत विद्यालय और विजय स्तम्भ)
  • राजा भोज विद्वान संस्कृत ज्ञाता, कवि थे।
  • समरांगण सूत्रधार (शिल्पशास्त्र), सरस्वतीकण्डभारण, सिद्धांत संग्रह, आयुर्वेंद सर्वस्व, राजमार्तण्ड, योसुत्र वृति, विद्या विनोद, चारूचर्चा, शब्दानुशासन, युक्ति कल्पतम (विधि ग्रंथ) आदि ग्रंथों की रचना राजा भोज ने की।
  • इस वंश के राजा जयसिंह को हराकर भीम-सI (चालुक्य, ), तथा कर्ण (कल्चुरी, त्रिपुरी) ने मालवा पर अधिकार कर लिया।


Also Read.....
वैदिककाल
होल्कर वंश


No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.