लोक प्रशासन की अवधारणाः अर्थ, प्रकृति, क्षेत्र एवं महत्व |Concept of Public Administration: Meaning, Nature, Scope and Significance

 

लोक प्रशासन की अवधारणाः अर्थ, प्रकृति, क्षेत्र एवं महत्व
(Concept of Public Administration: Meaning, Nature, Scope and Significance)

 

लोक प्रशासन की अवधारणाः अर्थ, प्रकृति, क्षेत्र एवं महत्व |Concept of Public Administration: Meaning, Nature, Scope and Significance

विषय सूची-
 
लोक प्रशासन की अवधारणाः अर्थ
 लोक प्रशासन का महत्त्व 



लोक प्रशासन की अवधारणा

  • लोक प्रशासन दो शब्दों 'लोक' और 'प्रशासन' का सम्मिश्रण है। अतः लोक प्रशासन का अर्थ जानने के लिए यह आवश्यक हो जाता है कि हम इन दोनों शब्दों का अर्थ पृथक-पृ थक रूप से समझ लें। 


प्रशासन शब्द का अर्थ एवं परिभाषा 

  • प्रशासन अंग्रेजी भाषा के शब्द Administration' का हिन्दी अनुवाद है जो लैटिन भाषा के दो शब्दों 'एड + मिनिस्ट्रेर' (administrator) से मिलकर बना है। इन दो शब्दों का सामूहिक अर्थ "व्यवस्था करना या व्यक्तियों की देखभाल करना या कार्यों को व्यवस्थित ढ़ंग से करना है। 


  • प्रशासन एक व्यापक प्रक्रिया है जो सभी सामूहिक कार्यों के बारे में, चाहे वे सार्वजनिक हों या व्यक्तिगत, सैनिक हों अथवा असैनिक, बड़े हों अथवा छोटे, सभी के सम्बन्ध में लागू होता है। यह एक सहयोगी कार्य है, जो सुनिश्चित उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए किया जाता है। वास्तव में सहयोग की भावना प्रशासन के मूल में बसी है। क्योंकि मानव सभ्यता की बुनियाद भी सहयोग है, अतः प्रशासन या प्रशासनिक तत्व सभ्य समाज के उद्गम से विद्यमान रहा है। बदली हुई परिस्थितियों में इसके स्वरूप में भले ही अन्तर आया हो, लेकिन इसकी आत्मा आज भी सहयोग पर आधारित है।

 प्रशासन की परिभाषा

ई० एन० ग्लैडन के अनुसार प्रशासन की परिभाषा 

"प्रशासन एक लम्बा तथा अलंकारयुक्त शब्द है, किन्तु इसका अर्थ सीधा-सादा है, क्योंकि इसका अर्थ 'लोगों की देखभाल करना' तथा 'पारस्परिक सम्बन्धों की व्यवस्था करना है।" 

(Administration is a long and slightly pompous word, but it has an humble meaning for it means to care for or to look after people to manage affairs-Gladden, E.N. "An Introduction to Public Administration", (2nd ed.), p. 18).

 

एल० डी० व्हाइट के अनुसार, प्रशासन की परिभाषा 

"किसी प्रयोजन या उद्देश्य की प्राप्ति के लिए बहुत से मनुष्यों का निर्देशन, समन्वय तथा नियन्त्रण ही प्रशासन है।" 


(The art of administration is the direction coordination and control of many persons to achieve some purpose or objective-White, L.D. Introduction to the Study of Public Administration, p. 2).

 

लूथर गुलिक के अनुसार प्रशासन की परिभाषा 

 "प्रशासन का सम्बन्ध कार्य पूरा किए जाने और निर्धारित उद्देश्यों की परिपूर्ति से है।" 

(Administration has to do with getting things done, with the accomplishment of defined objectives-Gullick, L. and Urwick, L. (eds.), Papers on the Science of Public Administration, p. 191).

 

फिफनर एवं प्रेस्थस के अनुसार प्रशासन की परिभाषा 


 "वांछित उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए मानवीय तथा भौतिक संसाधनों के संगठन और संचालन" को प्रशासन की संज्ञा दी है। 

(Administration is the organisation and direction of human and material resources to achieve desired needs-Pfiffner and Presthus, Public Administration, p. 3).

 

हर्बर्ट ए० साइमन के शब्दों में प्रशासन की परिभाषा 

"व्यापक अर्थ में जो समूह सामान्य उद्देश्यों की पूर्ति हेतु सहयोग करते हैं उनके कार्यों को प्रशासन की संज्ञा दी जा सकती है।" 


(In its broadest sense, administration can be defined as the activities of groups cooperating to accomplish a purpose-Simon, Smithburg and Thompson, Public Administration, p. 3.)

 

प्रशासन के लक्षण 

कुछेक विद्वानों द्वारा दी गई उपरोक्त परिभाषाओं के आधार पर हम यह कह सकते हैं कि प्रशासन निम्नांकित लक्षणों से युक्त होता है:

 

1. यह कुछ निश्चित उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए किए जाने वाले प्रयासों का प्रर्याय है।

2. उद्देश्यों की प्राप्ति में बहुत से व्यक्ति सहयोग करते हैं। 

3.प्रशासन संगठित प्रणाली से कार्य करता है।

4.प्रशासन शब्द का प्रयोग प्रायः बड़े, विशाल तथा औपचारिक संगठनों के लिए किया जाता है। 

5. प्रशासन का संगठन तथा कार्य क्रियान्वयन उसी स्थिति में होता है जबकि सम्बन्धित अधिकारियों के पास ऐसा करने का अधिकार होता है। 

6. प्रशासन के उद्देश्यों (जैसे- टीकाकरण करना, सड़क बनाना, बांध निर्माण, शिक्षा प्रदान करना, कानून व व्यवस्था का प्रबंध करना इत्यादि) तथा इसमें कार्यरत व्यक्तियों के उद्देश्यों (रोजगार प्राप्ति, सम्मान प्राप्ति, सुरक्षा प्राप्ति) में भिन्नता हो सकती है फिर भी प्रशासन के उद्देश्य, कार्मिक के उद्देश्य से टकराते नहीं अपितु समन्वय करते हैं।


लोकशब्द का तात्पर्य 

  • दूसरी ओर 'लोक' शब्द का तात्पर्य है साधारण आदमी या जनसाधारण। 'लोक' शब्द सार्वजनिकता का द्योतक है न कि किसी विशिष्ट वर्ग का । दूसरे शब्दों में हम कह सकते हैं कि 'लोक' शब्द जिस क्रिया के साथ जुड़ जाता है वह आम आदमी से सम्बन्धित हो जाती है न कि किसी वर्ग विशेष तक सीमित रहती है।

No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.