भारत में जल परिवहन {Water Transport in India}


  • केन्द्रीय अंतर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण की स्थापना 1987 ई. में की गयी थी। इसका मुख्यालय कोलकाता में है।

देश के जलमार्गों को दो भागों में बॉटा गया है-

  1. आन्तरिक जलमार्ग
  2. सामुद्रिक जलमार्ग 
आन्तरिक जलमार्ग -
  • यह परिवहन नदियों, नहरों एवं झीलों के द्वारा होता है। 
  • हल्दिया से इलाहाबाद तक जलमार्ग को 22 अक्टूबर, 1986 ई. को राष्ट्रीय जलमार्ग सख्या -1 घोषित किया गया।

सामुद्रिक जलमार्ग -
  •  इस दृष्टि से भारत का सम्पूर्ण प्रायद्वीपीय तटीय भाग काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। देश की मुख्य भूमि की 5600 किमी. लम्बी तटरेखा पर 12 बडे एवं 185 छोटे व मंझोले बन्दरगाह स्थित है।
  • देश का सबसे बडा बन्दरगाह मुम्बई में है।
  • बडे बंदरगाहों का नियत्रंण केन्द्र सरकार करती है, जबकि छोटे बन्दरगाह संविधान की समवर्ती सूची में शामिल हैं, जिनका प्रबन्धन संबंधित राज्य सरकार करती है।
  • देश का सर्वश्रेष्ठ प्राकृतिक बन्दरगाह विशाखापत्तनम है। यह भारत का सबसे गहरा बंदरगाह है।
  • गुजरात स्थित कांडला एक ज्वारीय बन्दरगाह है। यह मुक्त व्यापार क्षेत्र वाला बंदरगाह है।
  • चेन्नई एक कृत्रिम बंदरगाह है। यह भारत का सबसे प्राचीन बंदरगाह है।
  • कुद्रेमुख से लौह अयस्क का ईरान को निर्यात न्यू मंगलौर बंदरगाह से किया जाता है।
भारत के प्रमुख बडे बन्दरगाह
  1. कोलकाता का बन्दरगाह पश्चिम बंगाल राज्य में हुगली नदी पर है।
  2. मुम्बई का बन्दरगाह महाराष्ट्र राज्य में अरब सागर में है।
  3. चेन्नई का बन्दरगाह तमिलनाडु राज्य में बंगाल की खाडी पर है।
  4. कोच्चि केरल राज्य में अरब सागर पर है।
  5. विशाखापत्तनम आन्ध्र प्रदेश राज्य में बंगाल की खाडी में है।
  6. पारादीप उडीसा राज्य में बंगाल की खाडी में है।
  7. तूतीकोरिन तमिलनाडु राज्य में बंगाल की खाडी में है।
  8. मार्मागोवा गोवा राज्य में अरब सागर में है।
  9. कांडला गुजरात राज्य में अरब सागर में है।
  10. न्यू मंगलौर कर्नाटक राज्य में अरब सागर में है।
  11. न्हावाशेवा (जवाहरलाल नेहरू) महाराष्ट्र राज्य में अरब सागर में है।
  12. एन्नौर तमिलनाडु राज्य में बंगाल की खाडी में है।

No comments

Powered by Blogger.