ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार |ऑपरेटिंग सिस्टम कितने प्रकार के होते हैं? | Type of Operating System in Hindi

 ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार

ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार |ऑपरेटिंग सिस्टम कितने प्रकार के होते हैं? | Type of Operating System in Hindi


 

 ऑपरेटिंग सिस्टम कितने प्रकार के होते हैं?

ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार

1) बैच प्रचालन तंत्र (Batch Operating System)

 2) वास्तविक समय ऑपरेटिंग सिस्टम 

3) समय सहभाजन (शेयरिंग) ऑपरेटिंग सिस्टम 

4) वितरण ऑपरेटिंग सिस्टम 

(5) नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम 



ऑपरेटिंग सिस्टम  क्या होते हैं पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें 


1) बैच ऑपरेटिंग सिस्टम (Batch Operating System)

 

  • इसमें यूजर कुछ ऑफ लाइन डिवाइस जैसे पंच कार्ड की मदद से ऑपरेटर को काम सौंपता हैतब ऑपरेटर प्रोग्राम के पूर्व निर्धारित अनुक्रम के आधार पर प्रोग्राम / डेटा को एक इकाई के रूप में क्रमबद्ध करता है और फिर एक बैच में डेटा और प्रोग्राम को इकट्ठा करता है तथा इसे क्रियान्वित करने के लिए प्रोसेस करता है। इस ऑपरेटिंग सिस्टम में विभिन्न इनपुट / आउटपुट उपकरणों की प्रसंस्करण गति में भिन्नता के कारण सी.पी.यू. का निष्क्रिय समय बढ़ जाता है। उपयोगकर्ता और कार्य के बीच कोई सहभागिता नहीं रहती है। उदाहरण पेरोल सिस्टमबैंक विवरण आदि के लिए उपयोग किए जाने वाले ऑपरेटिंग सिस्टम हैं।

 

2) वास्तविक समय ऑपरेटिंग सिस्टम (Real Time Operating System)

 

यह एक डेटा प्रोसेसिंग मट स्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम हैजहाँ कार्य समय की कमी के लिए किए जाते हैं। इस ऑपरेटिंग सिस्टम में प्रतिक्रिया का समय बहुत कम होता है (किसी इनपुट का जवाब देने के लिए सिस्टम द्वारा लिया गया समय और आवश्यक जानकारी प्रदर्शित करता है)। इनका उपयोग वैज्ञानिक प्रयोगोंचिकित्सा इमेजिंग प्रणालियोंऔद्योगिक नियंत्रण प्रणालियों आदि में किया जाता है। 

वास्तविक ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) दो प्रकार के होते हैं: 

कठिन वास्तविक समय ऑपरेटिंग सिस्टमः 

  • इस वास्तविक ऑपरेटिंग सिस्टम में किसी कार्य को करने में समय की गारंटी दे सकते हैं। 

सॉफ्ट वास्तविक (Real) टाइम ऑपरेटिंग सिस्टम: 

  • इस वास्तविक ऑपरेटिंग सिस्टम में समय की गारंटी नहीं होती है और यह कार्य को प्राथमिकता देता हैजब तक कि यह पूरा न हो और फिर अन्य कार्यों के लिए आगे बढ़ते हैं।

 

3) समय साझा ऑपरेटिंग सिस्टम (Time Sharing Operating System)

 

  • इस ऑपरेटिंग सिस्टम में उपयोगकर्ताओं को सीपीयू जैसे संसाधनों का चलाने के लिए करने की अनुमति हैएक कंप्यूटर सिस्टम की मेमोरी एक साथ चलाने के लिए अंतिम उपयोगकर्ता जो विभिन्न टर्मिनलों पर स्थित हैंवे समय साझा करने की तकनीक की मदद से समान कंप्यूटर संसाधनों का उपयोग कर सकते हैं। उदाहरण के लिए कई उपयोगकर्ता एक ही मेनफ्रेम कंप्यूटर पर लॉग इन होते हैं और वे सभी सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (CPU) मेनफ्रेम कंप्यूटर की मेमोरी जैसे संसाधनों का उपयोग कर सकते हैं। इस ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रमुख लाभ यह हैं कि यह समय की बचत करता है और साथ ही साथ कई लोग एक साथ इस पर काम कर सकते हैं।

 

4) वितरण ऑपरेटिंग सिस्टम (Distribution Operating System) 

  • यह ऑपरेटिंग सिस्टम कई उपयोगकर्ताओं को कई वास्तविक समय अनुप्रयोगों के साथ सेवा करने के लिए कई केंद्रीय प्रोसेसर का उपयोग करता है। कई प्रोसेसर जिन्हें नोड्स भी कहा जाता हैका साइट एक दूसरे के साथ संचार लाइनों / टेलीफोन लाइनोंउच्च गति बेस (Base) की मदद से संवाद करते हैं।

 

  • वितरित प्रणाली का मुख्य उद्देश्य रिमोट संसाधनों को नियंत्रित तरीके से साझा करना है। यह ऑपरेटिंग सिस्टम जो कई प्रोसेसर पर चलता हैएक मशीन की तरह व्यवहार करने के लिए कई मशीनों को बनाने का प्रयास करता है। वितरित प्रणालियों के सामने आने वाली समस्याओं में से कुछ सुरक्षा संबंधी समस्यानेटवर्क में संदेशों की हानि और ओवरलोडिंग मुद्दों से संबंधित हैं। उदाहरण जहां वितरित कंप्यूटिंग का अनुप्रयोग किया जाता है वे इंटरनेट इंट्रानेट आदि हैं। 

 

5) नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम (Network Operating System )

 

  • इस ऑपरेटिंग सिस्टम में कई कंप्यूटरों की गतिविधियों को एक नेटवर्क के माध्यम से समन्वित किया जाता है। इसे लोकल एरिया नेटवर्क से जुड़े पर्सनल कंप्यूटरवर्कस्टेशन और सर्वर को सपोर्ट और प्रबंध करने के लिए बनाया गया है। यह सर्वरों को अलग-अलग प्रणालियों और विभिन्न स्थानों द्वारा दूर से सुलभ होने में मदद करता है। उदाहरण के लिए नोसयनिक्स लिनक्स (NOS, UNIX, Linux, Mac, OS)

No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.