मध्य प्रदेश में सीमेंट उद्योग का स्थानीयकरण

 

मध्य प्रदेश में सीमेंट उद्योग का स्थानीयकरण

मध्य प्रदेश में सीमेंट उद्योग का स्थानीयकरण


मध्यप्रदेश में सीमेंट उद्योग के स्थानीयकरण का विस्तृत वर्णन कीजिए ? MP-PSC Mains-2017


चूना पत्थर सीमेंट का प्रमुख अवयव है। मध्य प्रदेश में चूना पत्थर प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो मुख्य रूप से रीवा, जबलपुर, सतना तथा दमोह आदि में पाया जाता है इन कारणों से प्रदेश में सीमेंट उद्योग के लिए  अनुकूल दशाएं रखता है।

मध्य प्रदेश का सीमेंट उत्पादन की दृष्टि से देश में तीसरा स्थान है।  सीमेंट के उत्पादन में चीन के भारत का विश्व में दूसरा स्थान है।

 

मध्य प्रदेश में सीमेंट के कई कारखाने हैं उनमें से प्रमुख इस प्रकार हैं-

                          

कैमोर फैक्ट्री

एसोसिएटेड सीमेंट फैक्ट्री के स्वामित्व में सन् 1923 में कटनी के कैमोर में आर्द्र विधि से पोर्टलैण्ड व पोत्सलाना सीमेंट बनाने का कारखाना स्थापित किया गया। यहाँ ऐबेस्टॉस तथा सीमेंट बनाने का कारखाना भी है। 8 लाख मीट्रिक टन उत्पादन क्षमता वाले इस कारखाने में 2600  श्रमिक कार्यरत हैं।

सतना सीमेंट वर्क्स

यह बिड़ला ग्रुप द्वारा 1959 में स्थापित पोर्टलैण्ड सीमेंट कारखाना है। इसकी उत्पादन क्षमता 6 लाख मीट्रिक टन है तथा यहां लगभग 1100 लोग कार्यरत हैं।

मैहर फैक्ट्री

यह फैक्ट्री सन 1980-81 में सतना जिले में स्थापित हुई थी। इसकी उत्पादन क्षमता 75 हजार मीट्रिक टन सीमेंट है। यहां लगभग 900 श्रमिक कार्यरत हैं।

नीमच फैक्ट्री

यह फैक्ट्री सन् 1980-81 में नीमच में स्थापित की गई थी। इसकी उत्पादन क्षमता 4 लाख मीट्रिक टन सीमेंट की है। यहां लगभग 900 श्रमिक कार्यरत हैं।

बानमौर फैक्ट्री

यह सीमेंट फैक्ट्री 1922 में मुरैना जिले के बानमौर नामक स्थान पर एसोसिएटेड सीमेंट कंपनी  के स्वामित्व में गठित की गई थी। यह कारखाना आर्द्र प्राद्योगिकी विधि के द्वारा साधारण पोर्टलैण्ड सीमेंट का उत्पादन करता था। इसकी उत्पादन क्षमता 60 हजार मीट्रिक टन से अधिक थी।

इसके अलावा म.प्र. में मालनपुर सीमेंट  वर्क्स (1984), जीराबर सीमेंट वर्क्स धार (1985),  दमोह सीमेंट वर्क्स (1983) जे.पी. सीमेंट रीवा, प्रिज्म सीमेंट फैक्ट्रिया कार्यरत हैं।

No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.