भारतीय संविधान के विदेशी स्त्रोत | Sources of Indian constitution in Hindi


Sources of Indian constitution in Hindi

भारतीय संविधान के विदेशी स्त्रोत

संयुक्त राज्य अमेरिका से भारतीय संविधान मे लिए गए उपबंध 

  • मौलिक अधिकार
  • न्याययिक पुनरावलोकन
  • संविधान की सर्वोच्चता
  • न्यायपालिका की स्वतंत्रता
  • निर्वाचित राष्ट्रपति एवं उस पर महाभियोग
  • संविधान की सर्वोच्चता
  • उच्चतम एवं उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों को हटाने की विधि
  • वित्तीय आपात

ब्रिटेन से भारतीय संविधान मे लिए गए उपबंध

  • संसदात्मक शासन-प्रणाली
  • मंत्रिमंडल प्रणाली
  • परमाधिकार लेख
  • एकल नागरिकता
  • विधि निर्माण की प्रक्रिया

आयरलैंड से भारतीय संविधान मे लिए गए उपबंध

  • नीति निर्देशक सिद्धांत
  • राष्ट्रपति के निर्वाचक मंडल की व्यवस्थता
  • राष्ट्रपति द्वारा राज्यसभा में साहित्य, कला, विज्ञान तथा समाज सेवा इत्यादि के क्षेत्र में ख्यातिप्राप्त व्यक्तियों का मनोनयन।

आस्ट्रेलिया से भारतीय संविधान मे लिए गए उपबंध

  • प्रस्तावना की भाषा
  • समवर्ती सूची का प्रावधान
  • व्यापार, वाणिज्य और समागम की स्वतंत्रता
  • संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक
  • केंद्र व राज्य के मध्य शक्तियों का विभाजन एवं संबंध

जर्मनी से भारतीय संविधान मे लिए गए उपबंध

  • आपातकाल के प्रवर्तन के दौरान राष्ट्रपति को मौलिक अधिकार संबंधी शक्तियाँ

कनाड़ा से भारतीय संविधान मे लिए गए उपबंध

  • सशक्त केन्द्र के साथ संघात्मक विशेषताएँ
  • अवशिष्ट शक्तियाँ केन्द्र के पास
  • केन्द्र द्वारा राज्यपाल की नियुक्ति
  • राज्यपाल की नियुक्ति विषयक प्रक्रिया
  • उच्चतम न्यायालय का परामर्शी न्याय निर्णयन
  • संघ एवं राज्य के बीच शक्ति का विभाजन

दक्षिण अफ्रीका से भारतीय संविधान मे लिए गए उपबंध

रूस (पूर्व सोवियत संघ का संविधान)


जापान से भारतीय संविधान मे लिए गए उपबंध

  • विधि द्वारा स्थापित प्रक्रिया

फ्रांस से भारतीय संविधान मे लिए गए उपबंध

  • गणतंत्रतात्मक और प्रस्तावना में स्वतंत्रता, समता और बंधुता का आदर्श

भारतीय शासन अधिनियम 1935

  • संघीय तंत्र
  • राज्यपाल का कार्यालय
  • न्यायपालिका
  • लोकसेवा आयोग
  • आपातकालीन उपबंध एवं प्रशासनिक विवरण

भारतीय संविधान में अनेक देशी एवं विदेशी स्त्रोत हैं, लेकिन भारतीय संविधान पर सबसे अधिक प्रभाव भारतीय शासन अधिनियम 1935‘ का है। भारतीय संविधान के 395 अनुच्छेदों में से लगभग 250 अनुच्छेद ऐसे हैं, जो 1953 ई. के अधिनियम से या तो शब्दशः ले लिए गए हैं या फिर उनमें बहुत थोड़ा परिवर्तन के साथ लिया गया है।

Also Read.....

No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.