कटनी जिले के बारे में जानकारी | Katni Jile Ke Bare me Jankari

कटनी जिले का प्राचीन नाम मुड़वारा

कटनी जिले के बारे में सामान्य जानकारी

कटनी जिले का प्राचीन नाम मुड़वारा

कटनी के मुड़वारा नाम के पीछे की कहानी

01- किंवदंती है कि बीना-कटनी रेलमार्ग पर कटनी पहुँचने पर पड़ने वाले मोड़ के कारण इसका नाम मुड़वारा है।

02- किंवदंती है कि अंग्रेजी हुकूमत के दौरान अस्पताल के पास स्थित पेड़ पर अंग्रेज फाँसी देने के बाद सिर काटकर लटका देते थे। इस कारण इसका नाम मुड़वारा पड़ा।

03- कटनी के कन्हरवारा, डिठवारा, नन्हवारा, परसवारा जैसे बार गाँव जहाँ वराह की प्रतिमा थी, के कारण इसका नाम मुड़वारा पड़ा।

वर्तमान कटनी

  • कटनी जिला मध्य प्रदेश के उत्तरी-पूर्वी भाग में स्थित है। यह जबलपुर संभाग का उत्तरी जिला है।
  • 1998 में कटनी     मे कटनी को जबलपुर से अलग कर जिला बनाया गया ।
  • कटनी का नाम जिले से प्रवाहित होने वाली कटनी नदी के नाम रखा गया है जो मुवारा से 2 कि.मी. की दूरी पर है।  जिले का आकार ओवल की तरह है।

कटनी की भौगोलिक स्थिति

  • कटनी जिले का उत्तर-पूर्वी भू-भाग सतपुड़ा कैमोर पर्वत श्रृंखलाओं से घिरा हुआ है, जिसमें मुख्यतः विजयराघवगढ़, बड़वारा, एवं ढीमरखेड़ा विकासखंड आते हैं। जिले के दक्षिण पश्चिम भू-भाग महानदी-कटनी के ढलाने वाले घाटी क्षेत्र में आता है इसमें कटनी , रीठी, तथा बहोरीबंद विकासखंड आते हैं।
  • कटनी जिले का कुल क्षेत्रफल 454.66 वर्ग किलोमीटर है इसके पूर्व में सतना, जिला, पश्चिम में जबलपुर जिला, उत्तर में पन्ना जिला, दक्षिण में उमरिया जिला स्थित है।
  • भौगोलिक दृष्टि से उत्तरी अक्षांश 23.33 अंश से 24.80 अंश तक तथा पूर्वी देशांश 79.57 अंश से 80.58 अंश के बीच जिला स्थित है।
  • समुद्र तल से 392 मीटर ऊँचाई पर स्थित है।
  • कर्क रेखा कटनी जिले से होकर गुजरती है।
  • कटनी जिले के ढीमरखेड़ा विकासखंड का करोंदी ग्राम देश का मध्य केन्द्र बिन्दु है।
  • जिले में भूमि का कुल क्षेत्रफल 4590 वर्ग किलोमीटर है, जिले में कृषि जोत का आकार 1.3 हैक्टेयर है। अनाजों में सर्वाधिक धान का उत्पादन किया जाता है।
  • कटनी जिले का अधिकतम ताप 47 सेंटीग्रेट तथा न्यूनतम तापमान 40 सेंटीग्रेट है।
  • जिले में सामान्य औसत वर्षा 1212 मिलीमीटर होती है।
  • कटनी जिले की प्रमुख नदियां छोटी महानदी, कटनी नदी, उमरेड हैं। 


कटनी जनसंख्या एवं साक्षरता

कटनी  साक्षरता

  • 2011 में, कटनी की जनसंख्या 1,292,042 थी, जिसमें से पुरुष और महिला क्रमश: 662,013 और 630,029 थीं।
  • 2001 की जनगणना में, कटनी की जनसंख्या 1,064,167 थी, जिनमें से पुरुष 548,368 थे और शेष 515,79 9 महिलाएं थीं। 
  • 2001 के अनुसार जनसंख्या की तुलना में आबादी में 21.41 प्रतिशत परिवर्तन हुआ था। 
  • भारत की पिछली जनगणना में, 1991 की तुलना में कटनी जिले में इसकी जनसंख्या में 20.70 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। 


  • क्षेत्र: 4,950 Sq Km
  • वास्तविक जनसंख्या: 1,292,042
  • पुरुष: 662,013
  • महिला: 630,029
  • जनसंख्या वृद्धि: 21.41%
  • लिंग अनुपात (प्रति 1000): 952
  • बाल लिंग अनुपात (0-6 आयु): 939
  • औसत साक्षरता: 71.98
  • पुरुष साक्षरता: 81.92
  • महिला साक्षरता: 61.56


कटनी में उद्योग

  • कटनी का चूना उद्योग न केवल प्रदेश में बल्कि सारे देश में पहचाना जाता है। कटनी के संगमरमर आज देश ही नहीं विदेशों में भी लोकप्रिय है।
  • कटनी औद्योगिक दृष्टि से विकसित जिला है। जिसमें वृहत एवं मध्यम श्रेणी की इकाइयाँ स्थापित हैं।
  • एसोसिएशन सीमेंट कैम्प, कैमोर, एसीसी मेहगांव, एसीसी पावर प्लांट कैमोर, एसीसी रिफरेक्टरी कटनी, आर्डिनेंस फैक्ट्री कटनी, डाबर इंडिया लिमिटेड, निवार की ओजस्वी मार्बल इत्यादि ने जिले को औद्योगिक पहचान दी है।

कटनी प्रशासनिक व्यवस्था 


कटनी जिले की  तहसील

कटनी जिले की  तहसील

कटनी जिले में 8 तहसील हैं
1. कटनी शहर

2. कटनी ग्रामीण

3. बहोरीबंद

4. रीठी

5. विजयराघवगढ़

6. बरही

7.बड़वारा

8. ढीमरखेड़ा

कटनी  के तहसील के अंतर्गत  गाँव




तहसील
गाँव की संख्या
कटनी शहर
79
कटनी ग्रामीण
57
रीठी
116
बडवारा
109
बहोरीबंद
195
विजयराघवगढ़
142
ढीमरखेड़ा
221
बरही
50


नगर निगम एवं नगरीय निकाय



क्रमांक
नाम
1
नगर निगम कटनी
2
नगर परिषद् कैमोर
3
नगर परिषद् बरही
4
नगर परिषद् विजयराघवगढ़


कटनी विधानसभा क्षेत्र 

कटनी मे चार विधानसभा क्षेत्र हैं 
  1. बडवारा
  2. विजयराघवगढ़
  3. मुडवारा
  4. बहोरीबंद 

संसदीय क्षेत्र कटनी 

  • कटनी खजुराहो एवं शहडोल संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत आता है ।
  • कटनी जिले की बड़वारा विधानसभा शहडोल संसदीय क्षेत्र में आती है
  • कटनी जिले की चार विधानसभा में तीन विधानसभा मुड़वारा, विजयराघवगढ़ और बहोरीबंद खजुराहो संसदीय क्षेत्र में आती है. 

कटनी के पर्यटन स्थल

  • बहोरीबंद का तिगवां मंदिर
  • विजयराघवगढ़ का किला
  • रूपनाथ के कुंड हैं आकर्षक
  • बिलहरी का रंगमहल
  • शिलालेख आदि 

Also Read.....


No comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.