Header Ads

भारतीय कला एवं संस्कृति { Indian art and Culture},

  • ललित कला अकादमी की स्थापना 1954 में की गई थी।
  • संगीत नाटक अकादमी की स्थापना 1953 में की गई थी।
  • राष्ट्रीय फिल्म विकास निगम की स्थापना 1980 में की गई थी।
  • प्रख्यात सांस्कृतिक केन्द्र ’भारत भवन’ भोपाल में स्थित है।
  • भारतीय संगीत राग और ताल पर आधारित है।
  • शास्त्रीय संगीत के प्रथम अंग को ’अलाप’ कहा जाता है।
  • वीणा, वायलिन, तथा गिटार में तारों की संख्या क्रमश सात, चार तथा छः होती है।
  • राष्ट्रीय आधुनिक कला दीर्घा नई दिल्ली में स्थित है।
  • ’प्रिंस-ऑफ वेल्स’ म्यूजियम मुम्बई में स्थित है।
  • राष्ट्रीय संग्रहालय तथा भारतीय संग्रहालय क्रमशः नई दिल्ली तथा कोलकाता में स्थित है।
  • ’कथकली तथा मोहनीअट्टम’ शास्त्रीय नृत्य करेल राज्य से संबंधित है।
  • ’कुचिपुडी’ शास्त्रीय नृत्य से संबंधित राज्य आंध्र प्रदेश है।
  • ’भरतनाट्यम’ तमिलनाडु का शास्त्रीय नृत्य है।
  • ’ओडिसी’ मुख्य शास्त्रीय नृत्य उडीसा का है।
  • ’यक्षगान, कर्गा, कुनीता प्रमुख लोक नृत्य कर्नाटक का है।
  • ’कथक’ प्रमुख शास्त्रीय नृत्य उत्तर भारत का है।
  • राग यमन, राग भूपाली तथा राग विहाग का संबंध रात्री के प्रथम पहर से है।
  • हरि प्रसाद चौरसिया प्रसिद्ध बासुरी वादक है।
  • बिस्मिल्ला खॉं तथा अल्लारक्खा खॉं का संबंध क्रमशः शहनाई तथा तबला से है।
  • बासूरी ऐसा वाद्ययंत्र, जिस पर सभी राग बजाये जा सकते हैं। 
  • भारत का सबंसे प्राचीन प्रसिद्ध चित्रकला अजन्ता-एलोरा में (महाराष्ट्र) है।
  • ’पं. शिवकुमार शर्मा’ का संतुर से संबंध है।
  • सबसे पुराना वाद्ययंत्र वीणा है।
  • ’बिहु’, ’ओनम’, तथा ’पोगल’ प्रसिद्ध त्योहार क्रमशः आसम, केरल तथा तमिलनाडु का है।
  • बिहार राज्य तथा पश्चिम बंगाल का प्रमुख त्योहार क्रमशः छठ पूजा तथा दुर्गापूजा है।
  • ’झारखंड’ राज्य का प्रमुख त्योहार सरहूल (जनजातियों द्वारा) है।
  • लावणी, तमाशा तथा कोली महाराष्ट्र के प्रमुख लोक नृत्य है।
  • घूमर, कठपुतली, पनिहारी, गीदह, राजस्थान के प्रमुख लोक नृत्य है।
  • गरबा, डांडिया रास, रास लीला, गुजरात के प्रमुख लोक नृत्य है।
  • जात्रा, बाउल, काठी, कीर्तन, मुख्य लोक नृत्य पश्चिम बंगाल के है।
  • भांगडा, गिद्दा, धामन, सांग पंजाब/हरियाणा के प्रमुख लोक नृत्य है।
  • सल्तनत कालीन वास्तुकला का भव्य नमूना कुतुबमीनार (मेहरौली, दिल्ली) है।
  • कांचीपुरम् तथा एलोरा का कैलाश मंदिर, तंजौर का वृहदेश्वर मंदिर द्रविड शैली के श्रेष्ठ उदाहरण है।
  • भूवनेश्वर का मुक्तेश्वर मंदिर तथा खजुराहो का मंदिर नागर शैली का उदाहरण है।
  • कुक्कानुर का कालीश्वर मंदिर और लम्कुडी का जैन मंदिर बेसर शैली का श्रेष्ठ उदाहरण है।
  • नई दिल्ली का डिजाईन लॉर्ड एडवर्ड लुटयेन्स ने किया था।
  • चण्डीगढ का डिजाईन ली कार्बूजियर (फ्रांसीसी) ने किया था।
  • सुप्रसिद्ध चित्र ’बनी-ठनी’ किशनगढ शैली पर आधारित है।
  • सरोद मिजराव द्वारा बजाया जाता है।
भारत के महान व्यक्ति एवं उनके कार्य

  • भारतीय पुनर्जागरण का पिता राजा राम मोहन राय को कहा जाता है।
  • 1814 में आत्मीय सभा तथा 1828 में ब्रह्म समाज की स्थापना राजा राम मोहन राय ने की थी।
  • राजाराम मोहन राय के प्रयास से 4 अक्टूबर 1829 में सती प्रथा को अवैध घोषित विलियम बैटिक ने किया।
  • 1839 में तत्वबोधनी सभा की स्थापना देवेन्द्रनाथ टैगोर ने की थी।
  • केश्वचन्द्र सेन के सहयोग से 1867 ई. (मुम्बई) में प्रार्थना समाज की स्थापना आत्माराम पांडुरंग एवं महादेव गोविन्द रानाडे न की थी।
  • आर्य समाज की संस्थापक स्वामी दयानंद सरस्वती थे इसकी स्थापना 1875 में मुम्बई में की थी।
  • स्वामी दयानन्द सरस्वती का बचपन का नाम मूलशंकर (गुरू - विरजानन्द) था।
  • वेदों की ओर लौटो नारा स्वामी दयानन्द सरस्वती ने दिया था।
  • बाल गंगाधर तिलक को ’भारतीय अशांति का जन्मदाता’ वेलेन्टाइन शिरोल ने कहा था।
  • रामकृष्ण मिशन की स्थापना स्वामी विवेकानन्द ने 1 मई 1897 को बेल्लू में की थी।
  • स्वामी विवेकानन्द का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकता में हुआ था इनके बचपन का नाम नरेन्द्र दत्त (गुरू - रामकृष्ण परमहंश) था।
  • आधुनिक राष्ट्रीय आन्दोलन का अध्यात्मिक पिता विवेकानन्द को सुभाष चन्द्र बोस ने कहा था।
  • युवा बंगाल आन्दोलन के प्रवर्त्तक हेनरी विवियन डेरोजियो थे।
  • सत्यशोधक समाज की स्थापना ज्योतिबा फूले ने 1873 में की थी।
  • भारत में थयोसोफिकल सोसाइटी जिसकी स्थापना 1875 में हुई थी इसका मुख्यालय 1886 में अड्यार ( मद्रास) में बनाया गया था।
  • थियोसोफिकल सोसाइटी की स्थापना मैडम ब्लाटवस्की एवं कर्नल ऑल्कट ने (न्यूयार्क में) की थी।
  • लोकहितवादी के रूप में गोपाल हरिदेशमुख को जाना जाता है।
  • विधवा विवाह समाज की स्थापना विष्णु शास्त्री पण्डित ने 1850 में की थी।
  • खुदाई खिद्मतगार की स्थापना खान अब्दुल गफ्फर खॉं ने 1937 में की थी।
  • सीमांत गॉंधी खान अब्दुल गफ्फर खॉ को कहा जाता है।
  • सर्वेन्ट्स ऑफ इंडिया सोसाइटी (भारत सेवक समाज) के संस्थापक गोपाल कृष्ण गोखले थे।
  • 1923 में स्वराज पार्टी की स्थापना मोतीलाल नेहरू एवं चित्तरंजनदास ने की थी।
  • एशियाटिक सोसाइटी के संस्थापक विलियम जोन्स (1784 में) थे।
  • 1912 में ’विश्वभारती’ की स्थापना रविन्द्रनाथ ठाकुर ने कोलकता में की थी।
  • भारत का ग्रांड ओल्डमैन दादा भाई नौरोजी को कहा जाता है।
  • भारत का हीरा तथा महाराष्ट्र का लाल गोपाल कृष्ण गोखले को कहा जाता है।
  • स्वराज्य मेरा जन्म सिद्ध अधिकार है बाल गंगाधर तिलक ने कहा था।
  • शेरे पंजाब या पंजाब केसरी लाला लाजपत राय को कहा जाता है।
  • 1928 में साइमन कमिशन के विरूद्ध प्रदर्शन के दौरान लाठी प्रहार से लाला लाजपत राय की हत्या हुई थी।
  • लौह पुरूष और सरदार की उपाधि से विभूषित व्यक्ति वल्लभ भाई पटेल है।
  • आराम हराम है का नारा जवाहर लाल नेहरू ने दिया था।
  • जय हिन्द और दिल्ली चलो का नारा सुभाष चन्द्र बोस ने 1942 में दिया था।
  • आजाद हिन्द फौज के संस्थापक रास बिहारी घोष थे।
  • फॉरवर्ड ब्लॉक की स्थापना सुभाष चन्द्र बोस ने 1939 में की थी।
  • वल्लभ भाई पटेल को सरदार की उपाधि वारदोली की महिलाओं ने दी थी।
  • 21 अक्टूबर 1943 को भारत की अस्थाई सरकार की स्थापना सुभाषचन्द्र बोस ने सिंगापुर में की थी।
  • 1921 में प्रिंस ऑफ वेल्स के कलकत्ता आगमन का विरोध सुभाष चन्द्र बोस ने किया था।
  • अभिनव-भारत संस्था की स्थापना विनायक दामोदर सावरकर ने 1904 में की थी।
  • मुस्लिम लीग की स्थापना आगा खॉं एवं सलीम उल्ला खॉ ने ढाका 1906 में की थी।
  • राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के संस्थापक डॉ. हेडगेवार एवं बी.एस. मुंजे थे।
  • गदर पार्टी का गठन लाला हरदयाल ने 1913 में यू.एस.ए. में किया था।
  • हिन्दू महासभा के संस्थापक मदन मोहन मालवीय थे।
  • अनुशीलन समिति के संस्थापक श्री वारीन्द्र घोष एवं भूपेन्द्र दत्त थे।
  • इन्कलाब जिन्दाबाद का नारा भगत सिंह (शहीदे आजम) ने दिया था। 

No comments

Powered by Blogger.