छिंदवाड़ा जिले के बारे में जानकारी |Information about Chhindwara district

chhindwara jile ka itihas

छिंदवाड़ा का इतिहास एवं वर्तमान 

छिंदवाड़ा जिले का गठन

  • छिंदवाड़ा जिले का गठन 1 नवंबर, 1956 को हुआ। यह सतपुड़ा पर्वत माला के दक्षिण-पश्चिमी में स्थित है।
  • यह  21.28 से 22.49 डि. उत्तरी देशांतर और 78.40 से 79.24 डिग्री पूर्वी अक्षांश में 11,815 वर्ग कि.मी. क्षेत्र में फैला हुआ है।
  • जिले की सीमा दक्षिण में महाराष्ट्र के नागपुर जिले, उत्तर में  मप्र के होशंगाबाद और नरसिंहपुर, पश्चिम में बैतूल एवं पूर्व में सिवनी जिले से लगी हुई है।
  • छिदंवाड़ा जिला क्षेत्रफल की दृष्टि से प्रदेश में पहले नंबर पर है। जो प्रदेश के कुल क्षेत्रफल का 3.85 प्रतिशत है।
  • 1866-1867 के बीस मेजर एसर्बन ने छिंदवाड़ा को जलापुर्ति हेतु एक तालाब बनया था जो आज अशरफ या एसबर्न तालाब के नाम से जाना जाता है।

छिंदवाडा जिले का इतिहास

  • छिंदवाड़ा क्षेत्र की संस्कृति तथा इतिहास के निर्मण में उसकी भौगोलिक स्थिति और भू आकृति का विशिष्ट योगदान है। डाहल से दक्षिण कोसल जाने वाले मार्ग पर छिंदवाड़ा जनपद स्थित था। उज्जैन, सांची, विदिशा से दक्षिण में स्थित राजिम, सिरपुर आंर, मल्हार दुर्ग और बस्तर जिले में स्थित केसकाल तथा उड़ीसा के धवली और समापा के मध्य तीर्थ यात्रियों और व्यापारियों, सैनिक अभियानों के कारण छिंदवाड़ा का संपर्क उत्तर ओर दक्षिण से निरंतर बना रहा। परिणाम स्वरूप सभी दिशाओं से सांस्कृति धाराये छिंदवाड़ा जनपद की ओर प्रवाहित हुई।
  • प्राचीन साहित्य में इस क्षेत्र के अनेक उल्लेख प्राप्त होते हैं। यह जनपद वैदिक युग में चेदि देश का अंग रहा है। बौद्ध तथा जैन साहित्य में चेदिदेश के अंतर्गत इसका उल्लेख मिलता हैं। गुप्त सम्राट समुद्र गुप्त द्वारा विजित 18 आटविक राज्यों में एक छिंदवाड़ा भी था। छिंदवाड़ा जिले के मोहगांवकला नामक ग्राम से ओर मौरी नदी के तट से पाषाण युग के उपकरण और वृक्ष जीवाश्मों की प्राप्ति द्वारा इस क्षेत्र की प्राचीनता सिद्ध होती है।
  • गोंडवानावंश ने भी इस क्षेत्र में शासन किया इस क्षेत्र को देवगढ़पर राजधानी बनाया। गोंडसमुदाय के राजा जाटवने देवगढ़ किले का निर्माण किया है भक्त बुलुंद राजा वंश में सबसे शक्तिशाली था और उन्होंने सम्राट औरंगजेबके शासन के दौरान मुस्लिम धर्म को अपना लिया था। बाद में कई शासकों ने यहाँ राज किया और आखिरकार मराठा शासन’ 1803 में खत्म हुआ।
  • 17 सितंबर 1803 को ईस्ट इंडिया कंपनी ने ब्रिटिश शासन शुरू होने से रघुजी द्वितीयको हराकर इस राज्य पर कब्जा कर लिया। स्वतंत्रता के बाद नागपुरको छिंदवाड़ा जिले की राजधानी बना दिया गया था, और 1 नवंबर 1 9 56 को इस जिले को छिंदवाड़ा के साथ राजधानी बना दिया गया था।

छिंदवाड़ा जिले का नामकरण

मान्यता क्रमांक-1
  • छिंदवाड़ा नाम के संबंध में एक मत है कि इस क्षेत्र में छींद (खजूर की एक जाति) के वृक्षों की अधिकता के कारण इस क्षेत्र का नाम छिंदवाड़ा पड़ा।

मान्यता क्रमांक-2
  • शेरों की आबादी (हिंदी में इसे सिंहकहा जाता है) के कारण, यह माना जाता था कि इस जिले में प्रवेश करना सिंह के मांद के प्रवेश द्वार से गुजरने जैसा है। इसलिए इसे सिंहद्वाराकहा जाता है (शेर के प्रवेश द्वार के माध्यम से)। समय के कारण यह छिंदवाड़ाबन गया।

मान्यता-3
  • इस मत के अनुसार सिंधियों के परिवार के आधिपत्य के फलस्वरूप इसे सिंघवाड़ा और बाद में छिंदवाड़ा कहा गया।

छिंदवाड़ा जिले की भू-आकृति

  • संपूर्ण जिले को तीन भू-आकृतिक प्रक्षेत्रों में विभक्त किया गया है। दक्षिण प्रक्षेत्र सौंसर मैदानी भाग। मध्य भू-भाग सतपुड़ा का पठार प्रक्षेत्र एवं उत्तरी भू-भाग पठारीय व घाटी प्रदेश। इस प्रकार संपूर्ण जिला दक्षिण से उत्तर तक तीन सीडियों के रूप में है।

स्वतंत्रता आन्दोलन में छिंदवाड़ा

  •  छिंदवाड़ा  जिले में प्रथम स्वतंत्रता आंदोलन 1857-58 में शुरू हुआ था, जिसमें तातिया टोपेका आगमन हुआ था।
  • राष्ट्रीय जागरूकता आन्दोलन के एक भाग के रूप में डॉ बी.एस.गंज और दादा साहब खापरे ने 11 मई 1906 को इस जगह का दौरा किया।
  • छिंदवाड़ा के लोगों ने रोलेक्ट अधिनियम, असहयोग आंदोलन, साइमन आयोग, झंडा सत्याग्रह, जंगल सत्याग्रह, भारत छोड़ो आंदोलन, धनौरा कांड आदि के खिलाफ लड़ाई में भाग लिया।
  • महात्मा गांधी ने 6 जनवरी 1 9 21 को ,पं. जवाहरलाल नेहरू 31 दिसंबर 1 9 36 को और 18 अप्रैल 1 9 22 को सरोजिनी नायडू यहाँ आये।
  • छिंदवाड़ा जिले स्वतंत्रता संग्राम क्रांतिकारी - चेन शाह (सोनपुर के जागीदार), श्री ठाकुर राजबा शाह (जागीरदार प्रतापगढ़) और श्री महावीर सिंह (जागीदार, हाराकोट), सर्वश्रमी बादल भाई (पापरा), स्वामी श्यामानंद (अमरवारा), राजाराम शुक्ला (छिंदवाड़ा), अतुल रहमान (छिंदवाड़ा), नाथु लक्ष्मण गोसाई (सौसर), वामन राव पटेल (वानोरा)।
  • छिंदवाड़ा क्षेत्र के 138 स्वतंत्रता सेनानियों में से स्वर्गीय सरस्वती विश्वनाथ सालपेकर, अर्जुन सिंह सिसोदिया, गुलाब सिंह चैधरी, के जी रखेडा, प्रेमचंद जैन, रामचंद भाई शाह, आर.के.हलदुलकर, पिलाजी श्रीखंडे, सुरन प्रसाद सिंगरे, सूरज प्रसाद मधुरिया, जगमोहनलाल श्रीवास्तव, चन्नीलाल राय, महादेव राव खतौर्कर, चैटेल चावेरे, तुकाराम थॉसर, गोविंद राम त्रिवेदी, महादेव घोटे, दुर्गा प्रसाद मिश्रा, हरप्रसाद शर्मा, शिवकुमार शुक्ला, चैखेलाल मान्धाता, माणिक राव चैरे, विश्वम्भरनाथ पांडे, रामनिवास व्यास, गुरु प्रसाद श्रीवास्तव , दयाल मालवी, प्रहलाद बावसे, सत्यवती बाई, जयराम वर्मा आदि शामिल हैं।
chhindwara jile ke bare me jankari

वर्तमान में छिंदवाड़ा जिला


  • छिंदवाड़ा जिले के अंतर्गत सात विधान सभा क्षेत्र आते हैं। 
  • वर्तमान में छिंदवाड़ा जिले को 7 अनुविभाग और 11 खंडों में बांटा गया है।
  • जिले को वर्तमान में 13 तहसीलों में विभाजित किया गया है । 
  • छिंदवाड़ा जिले में जिला में 22 पुलिस स्टेशन, 1 एजेके और 1 सीटी कोतवाली।
  • छिंदवाड़ा जिला मे 803 ग्राम पंचायत है जिसमे 13 मंडल और 11 जनपद पंचायत ब्लॉक शामिल है। 

क्षेत्र संख्या 
विधान सभा क्षेत्र  
  1. जुन्नारदेव (एसटी)
  2. अमरवाड़ा (एसटी)
  3. चैरई
  4. सौसर
  5. छिंदवाड़ा
  6. परासिया (एससी)
  7. पांढुर्ना (एसटी)
अनुविभाग(7)

  1. छिंदवाडा
  2. परसिया
  3. जुन्नार्देओ
  4. सौसर
  5. पांदुरना
  6. चौरई
  7. अमरवाड़ा

विकासखण्ड(11)
  1. छिंदवाडा
  2. परसिया
  3. जुन्नारदंव
  4. तामिया
  5. हर्रई
  6. अमरवाड़ा
  7. चैरई
  8. बिछुआ
  9. मोहखेड़
  10. सौसर
  11. पांदुरना

तहसील 13
  1. छिंदवाड़ा
  2. परसिया
  3. चैरइ
  4. जुन्नार्देओ
  5. सौसर
  6. पांडुरना
  7. अमरवाड़ा
  8. हर्रई
  9. तामिया
  10. मोहखेड़
  11. बिछुआ
  12. उमरेठ
  13. चाँद


जनपद पंचायत एवं ग्रामों की संख्या 

जनपद पंचायत कुल ग्राम पंचायत कुल ग्राम
जनपद पंचायत परासिया 91  197
जनपद पंचायत जुन्नारदेव   97
 266
 जनपद पंचायत चैरई 91
191
जनपद पंचायत मोहखेड़  79 
 182
जनपद पंचायत पांढुर्ना 72
170
 जनपद पंचायत अमरवाड़ा 71
150

 जनपद पंचायत छिंदवाड़ा
 74 131
 जनपद पंचायत सौंसर   59
150
 जनपद पंचायत तामिया  53
195
जनपद पंचायत बिछुआ  51 
161
जनपद पंचायत हर्रई  67 
 218

जनसांख्यिकी

  • 2011 की जनगणना के अस्थायी आबादी के आंकड़ों के मुताबिक, मंडल की कुल संख्या 13 है।
  • कुल क्षेत्रफल 11815 वर्ग किलोमीटर
  • राजस्व प्रभागों की संख्या-7
  • राजस्व मंडलों की संख्या 13 (6 ग्रामीण 7 शहरी)
  • ग्राम पंचायत की संख्या-803
  • पूर्व तालुकों की संख्या-24
  • पुलिस स्टेशन की संख्या-26
  • नगर पालिकाओं की संख्या-5
  • गांवों की संख्या- 1965
  • कुल जनसंख्या- 20,90,922
  • जनसंख्या (महिलाएं)-10,26,454
  • जनसंख्या (पुरुष)- 10,64,468
  • साक्षरता दर- 71.16%
  • कुल साक्षरता 12,94,198
  • साक्षर (पुरुष) 7,31,294
  • साक्षर (महिलाएं)  5,62,904

छिंदवाड़ा जिले के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य

  • छिंदवाड़ा क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला है।
  • जनसंख्या - 2090306 व्यक्ति 
  • क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा जिला है (11815वर्ग किमी.)। 
  • पाताल कोट की भारिया जनजाति यहीं पाई जाती है। 
  • पेंच राष्ट्रीय उद्यान का कुछ भाग भी इसी जिले में है। 
  • हिन्दुस्तान लीवर लि. का कारखाना यहाँ है। 
  • पांढूरना में गोटमार प्रथा प्रचलित है। 
  • आदिवासी कला संग्रहालय छिन्दवाड़ा में स्थापित किया गया है। 
  • कोरकू जनजाति पाई जाती है। 
  • एग्रो कॉम्पलेक्स छिंदवाड़ा में है। 
  • पेंच राष्ट्रीय उद्यान में मोगली लैण्ड बनाया जा रहा है। 
  • कोयला, ताँबा, मैगनीज उत्पादन 
  • म.प्र. के कुल क्षेत्रफल का 3.85 प्रतिशत छिंदवाड़ा जिले में है।
  • सर्वाधिक भारिया जनजाति का निवास स्थल पातालकोट छिंदवाड़ा जिले में है।
  • एग्रो काॅम्पलेक्स छिंदवाड़ा जिले में स्थित है।
  • कोयला, तांबा, मैग्नीज उत्पादक जिला है।
  • कान्हन, पेंच, जाम, कुलबेहरा, शक्कर दुधी छिंदवाड़ा जिले की प्रमुख नदियां हैं।
  • पेंच राष्ट्रीय उद्यान का कुछ भग इस जिले में है।
  • यहां कोरकू जनजाति पाई जाती है।
  • बादल भोई आदिवासी म्यूजियम (1954 में स्थापित) इसमें म.प्र. की सभी जनजातियों से संबंधित तथ्यों को प्रदर्शित किया जाता है।
  • छिंदवाड़ा को कॉर्न सिटी के नाम से जाना जाता है।
  • छिंदवाड़ा का प्राचीनतम नाम सिन्हावाड़ा है।
  • 1988-1989 में छिंदवाड़ा को सोया जिला घोषित किया गया था।

छिंदवाड़ा जिले की प्रमुख औद्योगिक इकाईयां

  • हिन्दुस्तान लीवर लिमिटेड, लहगड़ुआ
  • रेमण्ड वूलन मिल्स लिमिटेड, बोरगांव
  • पी.बी.एम. पोलीटेक्स लिमिटेड, बोरगांव
  • सुपर पैक (बजाज) ग्राम सावली
  • भंसाली इंजीनियरिंग पोलीमर्स, सातनूर
  • सूर्यवंशी स्पिनिंग मिल्स, ग्राम राजना
  • शशिकांत एंड कम्पनी, जुन्नारदेव
  • रूबी इंजीनियंरिग वर्क्स छिंदवा़ड़ा
  • ईश्वर इंडस्ट्रीज खजरी, छिंदवाड़ा

छिंदवाड़ा के पर्यटन स्थल Tourist places of Chhindwara

पातालकोट
  • पातालकोट घाटी 79 किमी 2 के क्षेत्र में फैली हुई है।
  • समुद्र स्तर से 2750-3250 फीट की औसत ऊंचाई 22.24 से 22.2 9 डिग्री उत्तर और 78.43 से 78.50 डिग्री पूर्व तक। पातालकोट घाटी उत्तर-पश्चिम दिशा में छिंदवाड़ा से 78 किमी और उत्तर-पूर्व दिशा में तामीया से 20 किमी की दूरी पर स्थित है।
  • घाटी में दुधीनदी बहती है। यह घोड़ा-जूता आकार की घाटी पहाड़ियों से घिरा हुआ है और घाटी के अंदर स्थित गांवों तक पहुंचने के कई रास्ते हैं।
  • चट्टानें ज्यादातर आर्कियन युग से हैं जो लगभग 2500 मिलियन वर्ष हैं और इसमें ग्रेनाइट गनी, हरी स्किस्ट, मूल चट्टान, गोंडवाना तलछट के साथ क्वार्ट्ज समेकित बलुआ पत्थर, शैलियां और कार्बोनेशियास शैलियां शामिल हैं।
  • 2009 में सेंटर फॉर वानरी रिसर्चऔर एचआरडी पोमा, जिला प्रशासन और जिला ओलंपिक एसोसिएशन के संयुक्त प्रयास के साथ शुरू हुआ जिसमें 3000 जनजातीय युवाओं को परामर्श, पैराग्लाइडिंग, रॉक क्लाइंबिंग, ट्रेकिंग, पक्षी देखने और पानी जैसी साहसिक गतिविधियों में प्रशिक्षित किया गया था।
  • पातालकोट में प्रतिवर्ष  अक्टूबर के महीने में सतपुडा एडवेंचर स्पोर्ट्स फेस्टिवल नामक त्यौहार आयोजित किया जाता है।
पेंच राष्ट्रीय उद्यान
  • सतपुड़ा पहाड़ियों के निचले दक्षिणी इलाकों में उद्यान का नाम पेंच नदी के नाम पर रखा गया है, जो उत्तर से दक्षिण तक पार्क के माध्यम से घूमता है।
  • यह सिवनी और छिंदवाड़ा जिलों में महाराष्ट्र के किनारे मध्यप्रदेश की दक्षिणी सीमा पर स्थित है।
  • पेंच  नेशनल पार्क, जिसमें 758 एसक्यू किलोमीटर शामिल हैं, जिनमें से 2 9 9 वर्ग किमी इंदिरा प्रियदर्शिनी पेंच राष्ट्रीय उद्यान का मुख्य क्षेत्र और मोगली पेंच अभयारण्य और शेष 464 वर्ग किमी पेंच राष्ट्रीय उद्यान बफर क्षेत्र है।
देवगढ़ किला
  • देवगढ़ का यह प्रसिद्ध ऐतिहासिक किला मोहखेड़ , छिंदवाड़ा से 24 मील दक्षिण में स्थित है। किला एक पहाड़ी पर बनाया गया है, जो घने आरक्षित वन के साथ एक गहरी घाटी से घिरा हुआ है।
  • यह 18 वीं शताब्दी तक गोंडसाम्राज्य की राजधानी थी । देवगढ़ राज्य को मध्य भारत का सबसे बड़ा आदिवासी राज्य माना जाता था। ऐसा विश्वास किया जाता है कि देवगढ़ किले में नागपुर से जोड़ने वाला एक गुप्त भूमिगत मार्ग था, जिसका उपयोग आपातकाल के समय राजाओं द्वारा बचने के लिए किया जाता था।
  • किले में नागरखाना, मवेशी ड्रम का एक स्थान, किले की दीवारों के बिखरे अवशेष और दरबार हॉल के अवशेष हैं। किले के शीर्ष पर मोर्टिटंकानामक एक जिज्ञासु जलाशय है। कहा जाता है कि एक समय में जलाशय में जमा पानी इतना साफ रहता था कि एक सिक्के के तल पर भी स्पष्ट दृश्य हो सकता था।
  • यह किला गोंड वंश के राजा जाटव द्वारा बनाया गया माना जाता है। देवगढ़ किले का डिजाइन मुगल वास्तुकला के समान है, और इसलिए कुछ इतिहासकारों का मानना है कि किले का निर्माण बख्ता बुलंद ने किया था, जो राजा जाटव का उत्तराधिकारी था।
  • वर्तमान में देवगढ़ गाँव एक छोटा सा बसेरा है।
पांडुरना का गोटमार मेला
  • छिंदवाड़ा से 65 किमी  दूर, ‘पांढुर्णा में (गोटमार मेलानाम से एक अनूठा मेला भाद्रपद अमावस्या के दिन मनाया जाता है।
  • गोटमार मेला जामनदी के तट पर मनाया जाता है।
गोटमार मेले में क्या किया जाता है ?
  • एक लंबे पेड़ को नदी के बीच में एक झंडे के साथ खड़ा किया जाता है। गाँवों के निवासी सावरगाँवऔर पांढुर्ना नदी के दोनों किनारों पर इकट्ठा होते हैं, और विपरीत गाँव के व्यक्तियों पर पथराव (पकड़’) शुरू करते हैं, जो नदी के बीच में जाकर झंडा हटाने की कोशिश करते हैं पेड़ के तने के ऊपर। जिस गांव का निवासी झंडा हटाने में सफल होता है, उसे विजयी माना जाएगा। पूरी गतिविधि मांदुर्गाजी के पवित्र नाम के जप के बीच होती है। इस उत्सव में कई लोग घायल हो जाते हैं और जिला प्रशासन इस दुर्लभ मेले के सुचारू संचालन के लिए विस्तृत व्यवस्था करता है।
ट्राइबल म्यूजियम.. श्री बादल भोई स्टेट ट्राइबल म्यूजियम
  • 20 अप्रैल 1954 को छिंदवाड़ा में शुरू किए गए ट्राइबल म्यूजियम ने वर्ष 1975 में  स्टेट म्यूजियम का दर्जा हासिल कर लिया है।
  •  8 सितंबर 1997 को ट्राइबल म्यूजियम का नाम बदलकरश्री बादल भोई स्टेट ट्राइबल म्यूजियम कर दिया गया है।

कौन थे श्री बादल भोई

  • छिंदवाड़ा जिले के एक क्रांतिकारी आदिवासी नेता थे। उनका जन्म 1845 में परासिया तहसील के डूंगरिया तीतरा गाँव में हुआ था। उनके नेतृत्व में 1923 में हजारों आदिवासियों को कलेक्टर बंगला में प्रदर्शित किया गया था, लाठीचार्ज किया गया और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। 21 अगस्त 1930 को उन्हें अंग्रेजी शासक द्वारा रामाकोना (श्री विष्णुनाथ दामोदर के नेतृत्व में) पर वन नियम तोड़ने के लिए गिरफ्तार किया गया और  जेल भेज दिया गया। 1940 में अंग्रेजी शासक द्वारा उन्हें जहर दिए जाने के बाद उन्होंने अपनी अंतिम सांस जेल में छोड़ दी। राष्ट्रीय स्वतंत्रता संग्राम में उनके योगदान के कारण, जनजातीय संग्रहालय का नाम बदलकर श्री बादल भोई राज्य जनजातीय संग्रहालयकर दिया गया है। 15 अगस्त 2003 से, आदिवासी संग्रहालय पर्यटकों के लिए रविवार को भी खोला जाता है।
अन्य दर्शनीय स्थल
  • सिमरिया हनुमान जी 101 फीट उंची प्रतिमा
  • अनपुर्णा देवी घोघरा
  • जाम सावली हनुमान जी की लेटी हुई प्रतिमा
  • हिंगलाज माता मंदिर
  • श्री अनगढ़ हनुमान मंदिर
Also Read...

सिवनी जिले के बारे मे जानकारी 

1 comment:

Powered by Blogger.