Bharat Ki Parmparagat Yudh Kalayen भारत की परंपरागत युद्ध कलाएँ एवं खेल


  • 1920 के दशक में प्रचलित हुआ ‘मार्शल आर्ट’ शब्द मुख्य रूप से एशिया में प्रचलित युद्ध के तरीकों तथा पूर्वी एशिया में जन्मे युद्ध के तरीकों के संदर्भ में था।
  • मार्शल आर्ट को विज्ञान एवं कला, दोनों का मिश्रित रूप माना जाता है।द
  • केरल में प्रचलित प्रसि( मार्शल आर्ट ‘कलारिपयट्टू’ को प्राचीन समय में वन्य-जीवों से अपनी रक्षा के लिये सीखा जाता था।
  • कलारिपयट्टू के बहुत सारे लय एवं आसन जानवरों की मुद्रा एवं उनकी ताकत से प्रेरित हैं तथा उसके नाम भी उसी पर आधारित हैं।
  • केरल के इस मार्शल आर्ट को विश्व का सर्वाधिक प्राचीन एवं सबसे वैज्ञानिक रूप माना जाता है।
  • कलारिपयट्टू युद्धकला का प्रभाव भारतीय शास्त्राीय नृत्य कथकली में भी दिखाई देता है।
  • थांग-टा तथा सारित-साराक मणिपुर में प्रचलित प्रसिद्ध युद्ध कलाएँ हैं।
  • मणिपुर की युद्ध कला थांग-टा मणिपुर की अति प्राचीन मार्शल आर्ट ‘हुएन लाल्लोंग’ का परिष्कृत रूप है।
  • ठोडा हिमाचल प्रदेश की प्रसिद्ध युद्ध कला है, जिसमें धनुष-बाण का प्रयोग होता है।
  • गतका पंजाब के निहंग समुदाय के बीच प्रचलित युद्धकला है, जिसमें खिलाड़ी एक-दूसरे पर वार तथा बचाव करके अपने कौशल का प्रदर्शन करते हैं।
  • छीबी गद-गा मणिपुर में प्रचलित प्रसिद्ध युद्धकौशल है। इसमें विजय प्राप्त करने के लिये शारीरिक बल की अपेक्षा कौशल महत्त्वपूर्ण होता है।
  • ‘मर्दानी’ महाराष्ट्र का परंपरागत युद्ध कौशल है, जिसका विकास 15-16वीं शताब्दी में मराठा शासन के दौरान हुआ।
  • पारीकदा युद्ध कला पश्चिम बंगाल एवं बिहार में प्रचलित है। इस युद्धकला की गतियाँ पशु-पक्षियों की गतियों पर आधारित होती हैं।
  • कथी सामू तथा पाईका अखाड़ा युद्ध(कला क्रमशः आंध्र प्रदेश एवं ओडिशा में प्रचलित है।
  • अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह में निवास करने वाली निकोबारी जनजाति के बीच दो प्रकार के खेल प्रचलित हैं- असोल आप और असोल ताले आप।
  • निकोबार में होने वाली परंपरागत कुश्ती को किरिप कहा जाता है। सालदू भी यहाँ प्रचलित एक अन्य प्रकार की कुश्ती है।
  • धोपखेल असम में रंगोली बिहू के अवसर पर खेला जाने वाला एक प्रसिद्ध खेल है, जिसमें 11-11 खिलाडि़यों की एक-एक टीम खुले मैदान में आसमान में उछाली गई गेंद को पकड़ने का प्रयास करते हैं।
  • वल्लमकली केरल में प्रचलित प्रसिद्ध सर्प-नौका दौड़ है, जो ओणमके अवसर पर आयोजित की जाती है।
  • हियांग तन्नाबा मणिपुर में प्रचलित प्रसिद्ध( नौका दौड़ संबंधी खेल है, जो लाई हराओबा उत्सव के अवसर पर आयोजित की जाती है।
  • इन्सुकनावर मिशोरम में डंडे से खेला जाने वाला एक प्रसिद्ध खेल है, जिसमें सिर्फ पुरुष ही भाग लेते हैं।
  • खोंग खांजोई तथा लामजेई मणिपुर के प्रसिद्ध खेल हैं।
  • मल्लखंभ जमीन से लगभग 9 पफीट की उफँचाई पर लकड़ी के खंभे पर खेला जाने वाला खेल है।

No comments

Powered by Blogger.