Header Ads

वर्तमान मध्य प्रदेश ( Today's Madhya Pradesh}

  • देश की कुल जनसंख्या में मध्य प्रदेश की जनसंख्या का योगदान 6 प्रतिशत है। 
  • जनसंख्या के पैमाने पर मध्य प्रदेश को देश में सातवाँ स्थान है।
  • राज्य में छह धार्मिक समुदायों को अल्पसंख्यक घोषित किया गया है। राज्य की कुल जनसंख्या में अल्पसंख्यकों का अनुपात 8.15 है। राज्य में जो समुदाय अल्पसंख्यक घोषित किए गए हैं। वे हैं- मुस्लिम, सिख, ईसाई, बौद्ध जैन और पारसी इन सभी अनुयाइयों कुल जनसंख्या 49,17,390 है। 
  • संसदीय व्यवस्था: विधान सभा में भी 230 सदस्य निर्वाचित एवं 1 सदस्य मनोनयन के जरिए आते हैं। राज्य का लोकसभा में 29 और राज्यसभा में 11 सदस्य प्रतिनिधित्व करते हैं। 
  • प्रदेश में लगभग 163.71 लाख हेक्टेयर में खेती होती हैं। कृषि संगठन 2000-2001 के अनुसार राज्य में प्रतिव्यक्ति बोया गया क्षेत्र 0.34 हेक्टेयर है। 
  • मध्य प्रदेश मूलतः गाँवों में बसा राज्य है। राज्य की कुल प्रतिशत में लगभग 73.54 प्रतिशत लोग गाँवों में बसते हैं। जनसंख्या 2001 के आधार पर 4,43,80,878 लोग गाँवों और 1,59,67,145 लोग नगरीय क्षेत्रों में निवास करते हैं।
  • कार्यकारी जनसंख्या: 2001 की जनगणना के अनुसार राज्य की कुल जनसंख्या में 257.94 लाख कर्यकारी जनसंख्या है। 
  • भू-उपयोग: 150.74 लाख हेक्टेयर क्षेत्र को वर्ष 2005-06 के दौरान कृषि उपयोग में लाया गया। राज्य में अधिसूचित वनों के तहत 93 लाख हैक्टेयर भूमि है। 
  • जलवायु: मध्य प्रदेश में तीन मौसम शरद ऋतु (15 अक्टूबर से 15 फरवरी), ग्रीष्म ऋतु (15 फरवरी से 15 जून) और वर्षा ऋतु (15 जून से 15 अक्टूबर) प्रमुख हैं। गर्मियों में कई बार राज्य के बड़वानी, लांजी व बासौदा में तापमान 48 डिग्री सेल्सियस तक पहुँच जाता है। राज्य में आठ सौ से हजार मिलीलीटर के आसपास औसत वर्षा होती है। 
  • जल संसाधन: राज्य की अधिकतम सिंचाई क्षमता 112.90 लाख हेक्टेयर है। 
  • कृषि: राज्य के कुल कृषि क्षेत्र का 23.52 प्रतिशत क्षेत्र दो फसली है। 
  • उद्योग: राज्य में मार्च 2007 में लगभग 9 हजार पंजीकृत कारखाने थे। वर्ष 2007 में केन्द्र सरकार द्वारा राज्य में आठ विशेष आर्थिक क्षेत्रों (सेज) की स्थापना को अनुमति दी गई है। 
  • विमानन: राज्य के 50 जिलों में से 24 जिलों में हवाई पट्टियाँ हैं। भोपाल, इंदौर, खजुराहो, ग्वालियर और जबलपुर में राज्य के प्रमुख हवाई अड्डे हैं। भोपाल, इंदौर और खजुराहो को अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे बनाने की कार्यवाही चल रही है।  

भू- संसाधन 
  • मध्य प्रदेश अपनी केन्द्रीय उपस्थिति और सर्वाधिक वन क्षेत्र के कारण सदैव संपूर्ण देश के पर्यावरण को पोषित करता रहा है। मध्य प्रदेश मौटे तौर पर दक्कन के पठार पर अवस्थित है। उत्तर में यमुनना का जलोढ़ मैदान है। पश्चिम में चंबल से लगी अरावली की पर्वत श्रेणियाँ, पूर्व में छत्तीसगढ़ से लगा हुआ छोटा नागपुर का पठार, दक्षिण में ताप्ती के साथ लगे हुए प्रायद्वीय पठार हैं और गंगा के किनारों की ओर अढ़ते बघेलखण्ड के पठार हैं। सतपुड़ा के पठार इनमें सबसे उँचे लगभग 1350 मीटर हैं। बघेलखण्ड के पठार 1152 मीटर, विंध्याचल श्रेणी की अधिकतम ऊँचाई 881 मीटर जबकि नर्मदा 200 मीटर और चंबल 150 मीटर नीचे तक है। भौगोलिक स्थितियों के आधार पर मध्य प्रदेश को चार प्रमुख खडों में बाँटा जा सकता है:
  • 1. मध्य उच्च क्षेत्र 
  • 2. सतपुड़ा पर्वत श्रेणी
  • 3. पूर्वी पठारी क्षेत्र 
  • 4. नर्मदा भ्रंश धाटी 
  • मध्य उच्च क्षेत्र: समुद्र तल से 300 से 400 मीटर ऊँचा है।
  • मैकल का पठार वास्तव में सतपुड़ा श्रेणी के पूर्वी चौंड़े भाग को कहते हैं। 
Powered by Blogger.