Header Ads

मध्यप्रदेश की नदियॉं, नदियों के किनारे बसे म.प्र. के प्रमुख शहर { Major and Miner Rivers of MP, City on the Bank of Rivers in MP }

मध्यप्रदेश की नदियॉं

  • नर्मदा नदीं को म.प्र. की जीवन रेखा कहा जाता है।
  • नर्मदा म.प्र. की सबसे लम्बी और भारत की पॉचवीं बड़ी नदी है।
  • बेतवा नदी को म.प्र. की गंगा कहा जाता है।
  • म.प्र. की पॉच बड़ी नदियों में नर्मदा,चंबल, सोन, ताप्ती, बेतवा है।
  • भारत में सर्वाधिक नदियां म.प्र. मंे प्रवाति होती हैं।
  • चंबल नहीं बीहड़ के कारण दस्युओं का आश्रय स्थल है।
  • नर्मदा और ताप्ती नदियॉं डेल्टा का निर्माण नहीं कर एश्चुअरी का निर्माण करती हैं।
  • प्रख्यात भुगोलविद टॉलमी ने नर्मदा नहीं को नमोदास कहा है।
  • मध्यप्रदेश को नदियों को मायका कहा जाता है।
  • क्षिप्रा नदी के किनारे उज्जैन में प्रति बारह वर्ष के पश्चात महाकुंभ का आयोजन होता है।
  • नर्मदा नदी म.प्र., गुजरात, महाराष्ट्र से होकर गुजरती है।
  • नर्मदा नदी का उदगम अनुपपुर जिले की पुष्पराजगढ़ तहसील से हुआ है।
  • मध्यप्रदेश का सबसे लम्बा बांध तवा नदी पर 1322 मीटर है जो होशंगाबादजिले में है।
  • वर्धा तथा बेनगंगा के संगम स्थ को प्राणहिता के नाम से जाना जाता है।
  • मध्यप्रदेश में प्रवाहित होने वाली नदियॉं प्रायद्वीपीय नदियां हैं।
  • मध्यप्रदेश के अमरकंटक से 3 कि.मी. के अंतर से तीन नदिया नर्मदा, सोन, जोहिला का उदगम है।
  • मध्यप्रदेश का सबसे ऊंचा जल प्रपात चचाई है।
  • महाभारत में कहा गया है कि ताप्ती सूर्य भगवान की पुत्री है।
  • नर्मदा म.प्र. की प्रुमुख नदी हे।
  • राजय की प्रथम विद्युत परियोजना गांधी सागर बांध चंबल नदी पर मंदसैर में बनाई गई है।
  • क्षिप्रा नदी को मावा की गंगा कहते हैं।
  • नर्मदा क्षिप्रा का संगम उज्जैनी (इंदौर) में हुआ है।
  • चंबल, बेतवा, सोन एवं केन उत्तर दिशा में प्रवाहित होती हैं।
  • बेनगंगा, पेंच, वर्धा दक्षिण दिशा में प्रवाहित होती हैें।
  • नर्मदा एवं ताप्ती नदी पश्चिम दिशा में प्रवाहित होती हैं।
  • नर्मदा अमरकंटक से उदगमित, कुल लंबाई 1312 कि.मी. 
  • म.प्र. में प्रायद्वीपीय प्रकार की नदियाँ बहती है |
  • म.प्र. में सबसे ज्यादा नदियाँ प्रवाहित होती है |
  • म.प्र. से निकलने वाली अधिकांश नदियाँ दूसरे राज्य में जा कर किसी बड़ी नदी में मिल जाती है |
  • इसलिए म.प्र. को नदियों का मायका कहा जाता है |
  • छोटी कालीसिंध का उदगम देवास से हुआ है।
  • यह नदी आगे चलकर चंबल नदी में मिल जाती है।
  • लखुन्दर नदी यह मालवा क्षेत्र की छोटी नदी हैं
  • परवान नदी का  उदगम मालवा पठार से हुआ है।
  • नेवज नदी सिहोर जिले की आष्टा तहसील से हुआ है।
  • सिप नदी म.प्र. के चबंल क्षेत्र में प्रवाहित होती हैै।
  • कुनो नदी गुना के समीप से निकलती है।
  • बेसली नदी को बैसूल के नाम से भी जाना जाता है यह चंबल क्षेत्र में प्रवाहित होती है।
  • कैथन नदी का उदगम विदिश जिले के सिरोंज के पास पहाडि़यों से हुआ है।
  • क्योटन नदी विदिशा जिले से निकली हैं
  • महुअर यह सिंध की सहायक नदी है। इसका उदगम शिवपुरी के पास से हुआ है। पुराणों में इसे मधुमति के नाम से पुकारा गया है।
  • धसान नदी रायसेन लिे से निकलती है।
  • कुंआरी या क्वांरी नदी चंबल क्षेत्र की महत्वपूर्ण नदी हैं इसका उदमगम शिवपुरी जिले के देवगढ़ से हुआ है।
  • बेवस नदी रायसने जिले की सियारमउ पहाडि़यों से निकलती है।
  • टोंस नदी का उदमगम सतना जिले के पास से कैमूर की पहाडि़यों  से हुआ हैं
  • बीहड़ नदी विन्घ्य क्षेत्र के सतना जिले से खरम केड़ा की पहाडि़यों से उदगमित होती है।
  • कटनी नदी जबलपुर के सिहोरा के पास से भीतरीगढ़ पर्वत श्रेणी से निकलती है।
  • केरवा नदी भोपाल के समीपवर्ती नदी है जिस पर केरवा बांधा को निर्माण किया गया हैै।
  • माचारेवा नदी सिवनी जिले से निकलती है। इस नदी की कुल लंबाई 64 कि.मी. हैं
  • गंजाल नदी हरदा जिले के सांपना बर्रा पहाड़ी से उद्गमित होती है।
  • कोलार नदी सीहोर जिले के बिलकीसगंज के समीप विध्यांचल की पहाडि़यों से उद्गमित होती है।
  • म.प्र. की चार सबसे लम्बी नदियां – 1 ) नर्मदा , 2 ) चम्बल , 3 ) सोन , 4 ) ताप्ती
  • म.प्र. की वे नदियाँ जो गंगा नदी की सहायक है – सोन , टोंस |
  • यमुना नदी की सहायक – चम्बल , बेतवा , केन |
मध्यप्रदेश की प्रमुख नदियॉ
नर्मदा नदी 
  • म.प्र. की सबसे बड़ी और लम्बी नदी |
  • पश्चिम भारत में बहने वाली सबसे लम्बी नदी
  • भारत की पांचवी सबसे लम्बी नदी |
  • उदगम स्थल -: अनूपपुर जिले के अमरकंटक से निकलती है इस लिए इसे मैकल सुता कहा जाता है |
  • अन्य नाम – रेवा (प्राचीन नाम) ,म.प्र. तथा गुजरात की जीवन रेखा
  • अवसान– गुजरात के भडोंच के निकट खम्भात की खाड़ी में गिर जाती है
  • कुल लम्बाई – 1312 km , म.प्र. – 1077 km
  • यह तीन राज्यों में बहती है – म.प्र.,महाराष्ट्र ,गुजरात |
  • म.प्र. के 13 जिलो में बहती है |
  • अनूपपुर,डिंडोरी, मण्डला, जबलपुर,नरसिंहपुर,होशंगाबाद, हरदा, देवास, खंडवा, खरगोन,बड़वानी, धार, अलीराजपुर
  • सहायक नदियाँ – 41 विश्व में सर्वाधिक तवा,शेर, शक्कर, दूधि, हिरन ,मान , वनास , बरना
  • इसके द्वारा निर्मित जल प्रताप -: कपिल धारा , दुग्ध धारा , धुँआधार – भेडाघाट (जबलपुर) , सहस्त्र धारा – महेश्वर (खरगोन)
  • नर्मदा नदी डेल्टा का निर्माण नही करती है बल्कि एश्चुअरी का निर्माण करती है |
  • नर्मदा नदी दो पर्वत श्रेणियों के मध्य बहती है – विंध्याचल पर्वत और सतपुड़ा पर्वत
  • नर्मदा नदी के किनारे स्थित प्रसिद्ध तीर्थ स्थल – औकारेश्वर – खंडवा , महेश्वर – खरगोन
  • नर्मदा नदी पर स्थित परियोजना – नर्मदा घाटी परियोजना
  • बहने की दशा – पश्चिम दिशा |
चम्बल नदी 
  • नर्मदा नदी के बाद दूसरी सबसे लम्बी नदी |
  • उदगम स्थल – महू के जाना पाव पहाड़ी से निकलती है | महू को परशुराम तथा अम्बेडकर की जन्म स्थली मना जाता है |
  • अवसान – यू.पी के इटावा के पास यमुना नदी में
  • लम्बाई – 965 km
  • यह तीन राज्यों में बहती है – म.प्र. ,राजस्थान,उत्तर प्रदेश |
  • म.प्र. तथा राजस्थान की सीमा बनाती है |
  • सहायक नदियाँ – काली सिंध , क्षिप्रा , पार्वती , सिंध, वनास |
  • निर्मित जल प्रपात – चुलिया (कोटा)18 मी |
  • इसकी बहने की दिशा – उत्तर दिशा |
सोन नदी 
  1. उदगम – अनूपपुर जिले के अमरकंटक
  2. अवसान – पटना के पास गंगा नदी (दीनापुर)|
  3. दिशा – उत्तर की ओर
  4. लम्बाई – 780 k.m
  5. यह तीन राज्यों में बहती है – म.प्र.,उत्तर प्रदेश , बिहार |
  6. सहायकनदी–जोहिला
  7. निर्मित परियोजना – बाण सागर परियोजना (शहडोल)|
ताप्ती नदी 
  1. उदगम – बैतूल जिले के मुलताई के निकट सतपुड़ा पर्वत
  2. अवसान – गुजरात में सूरत के निकट खम्भात की खाड़ी में
  3. दिशा – पश्चिम (नर्मदा नदी के समांतर)|
  4. यह तीन राज्यों में बहती है – म.प्र. ,महाराष्ट्र , गुजरात |
  5. लम्बाई – 724 km
  6. सहायक नदी – पूरणा (पूर्णा)
  7. ये नदी डेल्टा का निर्माण नहीं करती एश्चुअरी बनाती है |
बेतवा 
  1. इसे म.प्र. की गंगा कहा जाता है
  2. उदगम – रायसेन के कुमरा नामक गाँव
  3. दिशा – उत्तर
  4. अवसान – उत्तर प्रदेश के हमीरपुर के पास यमुना नदी में म.प्र.तथा उत्तर प्रदेश में बहती हुई सीमा बनाती है
  5. सहायक नदियां – बीना धसान |
  6. इसके द्वारा निर्मित जल प्रपात – भालकुण्ड जल प्रपात (सागर)|
  7. निर्मित परियोजना – राजघाट परियोजना (लक्ष्मीबाई परियोजना)|

गंभीर
  • गंभीर नंदी इंदौर जिले के महू तहसील में जानापाव पहाड़ी से हुआ हैं
  • जानापाव को भगवान परशुराम की जन्मस्थली माना जाता हैं
  • उज्जैन जिले के माहिदपुर के पास क्षिप्रा नदीं में मिल जाती है।
  • इस नदी पर बेरछा और बदरख में दो बांध निर्मित हैं। बदरखा बांध से निर्मित  विशाल जलाशय यशवंत सागर के नाम से जाना जाता है। 

कालीसिंध 
  • उदगम – देवास के बागली से निकलती है |
  • अवसान – राजस्थान में चम्बल नदी में
  • राज्य – म.प्र. , राजस्थान
केन 
  • उदगम – केमुर पर्वतमाला के बीच मुवार गाँव से निकलती है।
  • पुराणों मे इसे सूक्तामती और कनर्वती कहा गया है । 
  • अवसाद – उत्तर प्रदेश में यमुना नदी में (बाँदा) |
  • राज्य – म.प्र. , उत्तर प्रदेश
  • रनेह नामक जल प्रपात बनाती है। 
बेन गंगा 
  • उदगम – सिवनी के प्रताप पुरा से |
  • अवसान – महाराष्ट्र में वर्धा नदी में मिल जाती है |
  • महाराष्ट्र में बेंन गंगा तथा वर्धा नदी के संगम को प्राणहिता कहा जाता है |
  • इसकीसहायकनदियाँ – कान्हन (छिंदवाड़ा) , पेच (छिंदवाड़ा) वावनथड़ी (बालाघाट)|
  • राज्यम.प्र.,महाराष्ट्र |
टोंस 
  • उदगम – मेंहर (सतना )की केमोर पहाड़ी से |
  • अवसान – उत्तर प्रदेश में गंगा नदी में |
  • राज्य – म.प्र. , उत्तर प्रदेश
सिन्ध 
  • उदगम – विदिशा
  • अवसान – उत्तर प्रदेश के अटावा के पास चम्बल नदी में
  • राज्य – म.प्र. , उत्तर प्रदेश
तवा 
  • उदगम – पंचमढ़ी के महादेव पर्वत से
  • अवसान – होशंगाबाद के पास इटारसी में नर्मदा नदी में
  • तवा नदी पर होशंगाबाद के पास तवा सेतु या महात्मा गाँधी सेतु निर्मित है जो म.प्र. का सबसे लम्बा पुल है |इसकी लम्बाई -1322 मी
क्षिप्रा 
  • उदगम – इंदौर के पास काकरी बरडी पहाड़ी (उज्जेनी गाँव)
  • अवसान–मंदसोरमेंचम्बलनदीमें |
  • उज्जेनीगाँवसेनर्मदा–क्षिप्रालिंकपरियोजनाप्रारंभकीगईहै 29 नवम्बर 2012 (लालक्रष्णअड़वाणी)फरवरी 2014 में यह परियोजना पूरी हो गई है |
पार्वती 
  • उदगम – सीहोर से
  • अवसान – चम्बल नदी (श्योपुर)|
माही 
  • उदगम स्थल – धार के विंध्याचल पर्वत
  • अवसान–गुजरात में खम्भात की खाड़ी में
  • राज्य – म.प्र. गुजरात, राजस्थान |
  • माहीनदी कर्क रेखा को दो बार कटती है |
नदियों के किनारे बसे  म.प्र. के प्रमुख शहर 
  1. जबलपुर, होशंगाबाद, ओंकारेश्वर – नर्मदा नदी
  2. अमरकंटक – नर्मदा व् सोन नदी
  3. महू , श्योपुर , रतलाम – चम्बल नदी
  4. शहडोल , सतना , सीधी – सोन नदी
  5. बुरहान पुर – ताप्ती नदी
  6. विदिशा , ओरछा ,गुना – वेतवा नदी
  7. बागली , देवास , आष्टा – काली सिन्ध नदी
  8. राजगढ़ , शाजापुर – पार्वती नदी
  9. शिवपुरी ,दतिया – सिन्ध नदी
  10. धार – माही नदी
  11. पचमढ़ी – तवा नदी
  12. मन्दसोर – शिवना नदी
  13. उज्जेन -क्षिप्रा नदी
  14. शिवनी – वेन गंगा नदी
  15. छिंदवाड़ा – कान्हन तथा पेंच नदी
  16. बालाघाट – वावन थडी नदी
  17. इंदौर – खान नदी
  18. रीवा (चचाई जल प्रपात –म.प्र. का सबसे ऊँचा 130 मी ) – बीहड़ नदी
  19. छतरपुर , पन्ना (पाडोल जलप्रपात) – केन नदी
मध्यप्रदेश की छोटी प्रमुख नदियां
  • गंभीर नदी का उद्गम इंदौर जिले के जानापाव पहाड़ी।
  • शिप्रा नदी का उद्गम इंदौर जिले के मुण्डलादोसदार गांव। कुल लंबाई 195 कि.मी.।
  • छोटी कालीसिंध का उद्गम देवास।
  • लखुन्दर का उद्गम उज्जैन जिले की तराना तहसील।
  • परवान नदी का उद्गम मालवा का पठार। म.प्र. मेे लंबाई 186 कि.मी.।
  • नेवज नदी का उद्गम सीहोर जिले की आष्टा तहसील।
  • पार्वती नदी का उद्गम सीहोर जिले के आष्टा के सिद्वीकी गंज के पास विध्यांचल पहाड़।
  • अहेली नदी श्योपुर जिले के पास प्रवाहित होती है।
  • सिप चंबल क्षेत्र में प्रवाहित होती है।
  • कुनो नदी गुना के समीप से निकलती है। राज्य में इसकी लंबाई 24 कि.मी. है।
  • बेसली नदी का उद्गम ग्वालियर जिले के काली पहाड़ से हुआ है। इस वैसूल नाम से भी जाना जाता है।
  • सिंध नदी का उदगम विदिशा जिले के लटेरी कस्बे से हुआ है।
  • आसन नदी का उदगम चंबल क्षेत्र के मुरैना जिले से हुआ है।
  • कैथन नदी का उदगम विदिशा जिले के सिरोंज से हुआ है।
  • क्योटर नदी विदिशा जिले की नदी है।
  • महुअर यह सिंध की सहायक नदी है। इसका उदगम शिवपुरी जिले से हुआ है।
  • बीना नदी का उदगम रायसेन जिले के देहगांव से हुआ है।
  • धसान नदी का उदगम रायसेन जिले से हुआ है।
  • कुआंरी चंबल क्षेत्र की प्रमुख नदी है। इसका उदगम शिवपुरी जिले के देवगढ़ से होता है।
  • पाहुज नदी का उदगम शिवपुरी जिले के पिछोर तहसील से हुआ है।
  • बेवस नदी का उदगम रायसेन जिले की सियारमउ पहाडि़यों से हुआ है।
  • देहान नदी बुन्देलखंड की नदी है। इसका प्रमुख प्रवाह सगर जिले के तहत आता है।
  • सोनार नदी रायसेन और सागर के मध्य स्थित पहाडि़यों से उद्गमित होती है।
  • कोपरा नदी सागर जिले के रहली से उद्गमित होती है।
  • बीहड नदी विन्ध्य क्षेत्र सतना जिले के अमरपाटर में खरमखेड़ा की पहाडि़यों से निकलती है।
  • महानदी छोटी यह मंडला जिले  के अखड़ार गांव के समीप से निकलती है
  • बनास नदी का उद्गम छत्तसीगढ़ के महेन्द्रगढ़ से हुआ हैं म.प्र. मे यह सीधी शहड़ोल जिलों में प्रवाहित होती है।
  • बाघेन नदी पन्ना जिले से निकलती है।
  • जोहिला का उदगम अनूपुर जिले के अमरकंटक से हुआ है।
  • अजनार नदी का उद्गम भोपाल के पास जंगली क्षेत्र से हुआ है। भोपाल के समीप प्रवाहित होती है।
  • कलियासोत  नदी भोपाल की समीपवर्ती नदी है।
  • केरवा नदी भोपाल की समीपवर्ती नदी है।
  • नेउर नदी प्रदेश के सीधी और सिंगरौली जिलों में प्रवाहित होत हैं
  • गोपद मध्यप्रदेश के विन्ध्यक्षेत्र की महत्वपूर्ण नदी है। यह छत्तीसगढ़ से उद्गमित होती है।
  • बिजुल नदी यह सोन की सहायक नदी है। सिंगरौली इसके प्रवाह क्षेत्र मेें आता है।
  • रेहन नदी को रिहिन्द नदी भी कहते है यह नदी छत्तीसगढ़ की मातृंगा पहाडि़यों से निकलती है।
  • पैसूनी नदी को पवित्र मंदाकिनी नदी के तौरपर भी जाना जाता है। पैसूनी नदी सतना जिले की डागरी पहाड़ी से उद्गमित होती है।
  • हलाली नदी को बाणगंगा, बसे और थाल नाम से भी जाना जाता है यह सीहोर जिले के परवलिया गांव से निकलती है।
  • हलाली नदी पर सांची के समीप समा्रट अशोक सागर बांध अथवा हलाली बांध बना है।
  • शिवना नदी का उद्गम रतलाम जिले से हुआ हैं
  • कारम नदी इंदौर जिले के सिंगारचोरली पहाड़ी से निकलती है।
  • रिछन नदी रायसेन जिले में प्रवाहित होती है।
  • सांक नदी ग्वालियर शहर के समीपवर्ती डीन पहाड़ी से निकलती है।
  • शेर नदी का उद्गम सिवनी जिले में सतपुड़ा पर्वत श्रेणी से हुआ है। 
  • शक्कर नदी छिंदवाड़ा जिलेे अमरवाड़ा के समीप से उद्गमित होती है नर्मदा की सहायक नदी है।
  • दूधी छिंदवाड़ा जिले के तामिया के पास से उद्गमित होती है।
  • गंजाल नदी हरदा जिले के सांपना बर्रा पहाड़ी से उद्गमित होती है।
  • कावेरी नदी नर्मदा के बायें तटर पर मिलने वाली सहायक नदी है। इसका जलग्रहण क्षेत्र खंडवा जिले में आता है।
  • हिरन नदी का उद्गम जबलपुर जिले कुन्डम से हुआ है।
  • बारना नदी का उद्गम रायसेन जिले से हुआ है।
  • कोलार नदी का उद्गम सीहोर जिले के बिलकीसगंज के समीप पहाडि़यों से हुआ है।
  • चोरल नदी का उद्गम इंदौर के समीप छोटा जाम से हुआ है। इसके उद्गम स्थल पर जाम दरवासा मंदिर का निर्माण किया गया है।
  • मान नदी का उद्गम धार जिले के विन्ध्य पर्वतमाला से हुआ है।
  • हथनी नदी का उद्गम अलीराजपुर के समीप से हुआ है।
  • मोरंड नदी का उद्गम बैतूल जिले के चीचली पहाडि़यों से होता है।
  • देनवा नदी का उद्गम पचमढी की धूपगढ़ पहाडि़यों से होता है।
  • बावनथड़ी नदी का उद्गम सिवनी जिले के पहाड़ी क्षेत्र से होता है।
  • कुन्दा नदी का उद्गम पश्चिमी निमाड़ क्षेत्र से होता है।
  • कालघई नदी का उद्गम खंडवा जिले के पंधाना के पास सतपुड़ा की पहाडि़यों से हुआ है।
  • पूर्णा नदी ताप्ती की सहायक नदी है। इसक उद्गम बैतूल जिले के भैंसदेही से हुआ है।
  • आवना नदी खंडवा जिले के समीप से निकलती है।
  • कन्हान नदी छिंदवाड़ा जिले की प्रमुख नदी है। इसका उद्गम छिंदवाड़ा जिले के पहाड़ी क्षेत्र से हुआ है।
  • बैनंगगा नदी का उद्गम सिवनी जिले के पहाडी़ क्षेत्रों से हुआ है।
  • वर्धा नदी का उद्गम बैतूल जिले मुलताई में स्थित दहाढाना चौटी से हुआ है।
  • माही नदी धार जिले के सरदारपुर तहसील में गोमांसपुर पहाडि़यों से निकलती है।
  • पानाम नदी झाबुआ जिले से उद्गमित होती है।

No comments

Powered by Blogger.