मध्यप्रदेश की सिचाई व्यवस्था ,मध्य प्रदेश की प्रमुख नदियाँ {Irrigation system in Madhya Pradesh and Rivers of MP}

  •  देश  में सभी स्त्रोतों से सिचाई का औसत 36 प्रतिशत है। जबकि मध्यपद्रेश में यह औसत 16 प्रतिशत है।
  • प्रदेश में सिचाई के तीन प्रमूख साधन कुएं, नहरें और तलाब हैं।
  • राज्य में 2. 23 करोड़ एकड़ फुट भू-जल उपलब्ध है।
  • कुंओं द्वारा सिचाई पश्चिमी  क्षेत्रों में सर्वाधिक होती है।
  • बालाघाट एवं सिवनी में तलाब से सिचाई होती है।
  • प्रदेश में औसत वार्षिक वर्षा 112 सेमी है।
  • सबसे कम सिचाई वाला जिला डिडोरी है।
  • शुद्ध सिंचित क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत में म.प्र. का सातवॉ स्थान है।
  • मध्यप्रदेश में नहरों द्वारा सर्वाधिक सिचाई भिण्ड, मुरैना, श्योपुर, ग्वालियर आदि मेें होती है।
  • म.प्र. की प्रथम बहुउद्देशीय नदी घाटी परियोजना चम्बल नदी घाटी परियोजना है जो वर्ष 1953-54 से प्रारंभ हुई है।
  • मध्यप्रदेश की पहली अन्तर घाटी परियोजना डॉ अंबेडकर नगर महू में चोरी नदी पर स्थापित की गई है।
  • नर्मदा एक अंतर्राज्यीय नदी है। यह मप. महााष्ट्र, गुजरात राज्यों में प्रवाहित होती है।
  • नर्मदा नदी पर 29 वृहद, 135 मध्यम एवं 3000 लघु योजनाएं सम्मिलित हैं।
  • इंदिरा सागर जलाषय का षिलान्यास अक्टूबर 1984 में  तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने किया था।
  • केन-बेतवा लिंक परियोजा म.प्र. के पन्ना राष्ट्रीय उद्यान से होेकर गुजरेगी।
  • माही परियोजना धार में लाबरिया माही नदी पर निर्मित है।
  • मान परियोजना 2006 को लोकार्पित, धार जिले के जीराबाद के पास मान नदी पर निर्मित की गई है।
  • 1956 में जलसंसाधन विभाग की स्थापना की गई हे।
  • कृत्रिम रूप से फसलों को पानी देना सिचांई कहलाता है।
  • राज्य में शुद्ध  सिंचित क्षेत्र 7140 हजार हेक्टेयर है।
  • मध्यप्रदेष सिचाई उद्वहन निगम की स्थापना 1976 में की गई है।
  • शुद्ध सिचिंत क्षेत्र की दृष्टि से भारत में मध्यप्रदेष सातवॉ स्थान पर है।
  • नर्मदा प्राधिकरण का गठन 1980 में किया गया है।
  • राज्य में कुएं/नलकूप से 69.9 प्रतिशत, नहरों से 17.8 प्रतिशत, तालाब से 2.3 प्रतिशत एवं अन्य स्त्रोतो से 10.41 प्रतिशत सिचांई होती है।
मध्य प्रदेश की प्रमुख नदियाँ
नर्मदा नदी

  1. नर्मदा नदी मध्यप्रदेश की सबसे बड़ी नदी है तथा भारत की पांचवें नम्बर की बड़ी नदी है।
  2. यह मध्यप्रदेश की जीवन रेखा कहलाती है।
  3. नर्मदा नदी का उद्गम अमरकंटक मैकल पर्वत श्रेणी से हुआ है जो अनूपपुर जिले में है।
  4. यह पूर्व से पश्चिम की तरफ बहती है
  5. नर्मदा नदी की कुल लंबाई 1312 किमी. है तथा मध्यप्रदेश में 1077 किमी।
  6. नर्मदा नदी डेल्टा नहीं बनाती यह एस्चुरी का बनाती हैं।
  7. यह तीन राज्यों में बहते हुए -( मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात ) अरब सागर में खंभात की खाड़ी में समाहित हो जाती है।
  8. नर्मदा नदी के अन्य नाम - रेवा, शंकरी, नामोदास, सोमोदेवी।
  9. इसकी 41 सहायक नदियाँ हैं जिसमें प्रमुख है - तवा, हिरण, शक्कर, दूधी, करजन, शेर, बनास, मान इत्यादि।
  10. नर्मदा नदी द्वारा निर्मित जलप्रपात - कपिल धारा एवं दुग्ध धारा जलप्रपात ( अनूपपूर ),धुआंधार जलप्रपात ( भेड़ाघाट, जबलपुर ), सहस्रधारा जलप्रपात ( महेश्वर, खरगोन ), दर्धी जलप्रपात, मानधाता जलप्रपात।
  11. नर्मदा नदी पर निर्मित बांध - इंदिरा सरोवर ( खंडवा ), सरदार सरोवर ( नवेगाव, गुजरात), महेश्वर परियोजना ( महेश्वर) बरगी परियोजना ( बरगी,जबलपुर), ओमकरेश्वर परियोजना।
  12. नर्मदा नदी के तटीय शहर - अमरकंटक, जबलपुर, नरसिंहपुर, होशंगाबाद, निमाड, मंडला, ओमकारेश्वर, महेश्वर,बडवानी, झाबुआ, धार,बडवाह, सांडिया इत्यादि।
    चंबल नदी
    1. चंबल नदी का उद्गम इंदौर की महू तहसील की  जानापाव पहाड़ी से हुआ है।
    2. यह मध्यप्रदेश की दूसरी बड़ी नदी है, इसे चर्मावती भी कहा जाता हैं।
    3. यह नदी उत्तर पूर्व की ओर बहते हुए उत्तर प्रदेश के इटावा जिले में यमुना नदी मे मिल जाती है।
    4. चंबल नदी की कुल लंबाई 965 किमी है।
    5. यह मध्यप्रदेश तथा राजस्थान की सीमा बनाती हुई उप्र में प्रवेश करती है। यह मप्र मे दो बार प्रवेश करती है।
    6. मध्यप्रदेश में यह महू, धार, रतलाम, शिवपुरी, भिंड मुरैना तथा मंदसौर के समीप से बहती है।
    7. चंबल नदी की सहायक नदियाँ - कालीसिंध, पार्वती, बनारस और पुनासा है।
    8. चंबल नदी भिंड मुरैना के क्षेत्रों में खड्डों एवं बीहड़ों का निर्माण करती है।
    9. पुनासा जलप्रपात चंबल नदी द्वारा निर्मित  जलप्रपात है
    10. चंबल नदी पर निर्मित बांध - गांधी सागर बांध ( मंदसौर ), राणा प्रताप सागर बांध ( चित्तौड़गढ़ राजस्थान ), जवाहर सागर बांध ( कोटा, राजस्थान )
      ताप्ती नदी
      1. ताप्ती नदी बैतूल जिले की मुलताई तहसील की सतपुडा पर्वत श्रेणी से निकलती है।
      2. यह मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र तथा गुजरात में कुल 724 किमी  बहते हुए सूरत के निकट खंभात की खाड़ी में मिलती है।
      3. इसकी सहायक नदियाँ पूर्णा, शिवा तथा बोरी है।
      4. ताप्ती नदी नर्मदा नदी के समानांतर पूर्व से पश्चिम ओर बहती है, एव डेल्टा न बनाकर एस्चुरी बनाती है।
      5. ताप्ती नदी के समीप मुलताई बुरहानपुर शहर है।
      6. ताप्ती नदी पर मध्यप्रदेश एवं महाराष्ट्र की संयुक्त परियोजना - अपर ताप्ती, लोअर ताप्ती।
      सोन नदी
      1. सोन नदी को स्वर्ण नदी भी कहा जाता है।
      2. सोन नदी का नाम उद्गम अनूपपुर जिले के अमरकंटक से हुआ है।
      3. यह मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश तथा बिहार में बहती हुई पटना के समीप दीनापुर में गंगा में मिल जाती है।
      4. सोन नदी की कुल लंबाई  780 किलोमीटर है।
      5. इसकी सहायक नदियाँ - जोहिला
      6. सोन नदी पर बाणसागर परियोजना निर्मित है जो शहडोल जिले के देवलोन पर स्थित है।
      बेतवा नदी
      1. इस नदी का पौराणिक नाम ब्रेतवती है।
      2. बेतवा नदी रायसेन जिले के कुमारगांव की महादेव पर्वत श्रेणी से निकलती है।
      3. यह मध्यप्रदेश उत्तर प्रदेश में कुल 480 किमी बहते हुए उप्र के हमीरपुर में यमुना नदी से मिल जाती है।
      4. बेतवा नदी की सहायक नदियां - बीना, केन, धसान, सिंध, देनवा, कालीभिति तथा मालिनी इत्यादि।
      5. विदिशा, सांची, ओरछा, गुना  इसके किनारे बसे शहर है।
      6. बेतवा नदी पर राजघाट बांध तथा माताटीला बांध बने हुए है जिसमें मप्र एवं उप्र की संयुक्त सिचाई परियोजना है।
      7. सिचाई परियोजना द्वारा भांडेर, दतिया, भिंड तथा ग्वालियर लाभान्वित हुए हैं।
      क्षिप्रा नदी
      1. यह नदी इंदौर के काकरी बारडी नामक पहाड़ी से निकलती है।
      2. क्षिप्रा नदी उज्जैन, देवास जिलों में बहते हुए मंदसौर में चंबल नदी में मिल जाती है।
      3. इस नदी की कुल लंबाई 195 किलोमीटर है।
      4. क्षिप्रा नदी को मालवा की गंगा भी कहा जाता है।
      5. इस नदी के किनारे उज्जैन में प्रसिद्ध महाकालेश्वर मंदिर स्थित है।
      6. खान नदी क्षिप्रा की सहायक नदी है।
      वेनगंगा
      1. यह नदी सिवनी के परसवाडा पठार से निकलती है।
      2. बेनगंगा नदी महाराष्ट्र में वर्धा नदी में मिल जाती है।
      3. कन्हान, पेंच तथा बावनथडी इसकी सहायक नदी है।
      4. बेनगंगा नदी पर अपर बेनगंगा, संजय सरोवर परियोजना है जो बालाघाट सिवनी में है।
        तवा नदी
        1. तवा नदी का उद्गम पचमढ़ी ( होशंगाबाद ) के महादेव पर्वत से है।
        2. यह होशंगाबाद के निकट नर्मदा नदी में मिल जाती है।
        3. तवा नदी की सहायक नदी मालिनी देनवा है।
        4. इस नदी पर मध्यप्रदेश का सबसे बड़ा सड़क पुल है।
        कालीसिंध नदी
        1. यह नदी देवास जिले के विंध्याचल पर्वत से निकलती है।
        2. इसकी लंबाई 150 किलोमीटर है।
        3. यह शाजपुर एवं राजगढ़ जिलों में बहती हुई राजस्थान में चंबल नदी में मिल जाती है।
        4. केन नदी
        5. केन नदी विंध्याचल पर्वत से निकलती है
        6. यह उत्तर की ओर बहती हुई उत्तर प्रदेश में यमुना नदी में मिल जाती है।
        पार्वती नदी
        1. यह सिहोर जिले के विंध्यपर्वत से निकलती है।
        2. यह गुना में चंबल नदी में मिल जाती है।
        शक्कर नदी
      1. इसका उद्गम नरसिंगपुर जिला है।
      2. मध्य प्रदेश में और भी बहुत नदिया बहती है ।

      No comments

      Powered by Blogger.