Header Ads

प्राचीन इतिहास महत्वपूर्ण वन लाइनर { Old History One Liner }


इतिहास का पिता किसे समझा जाता है— हेरोडोटस

● जिस काल में मानव की घटनाओं का कोई लिखित वर्णन नहीं होता, उस काल को क्या कहा जाता है— प्रागैतिहासिक काल

● मानव जीवन की घटनाओं का लिखित वर्णन क्या कहलाता है— इतिहास

● आग का अविष्कार किस युग में हुआ— पुरापाषण युग में

● पुरापाषण युग में मानव की जीविका का मुख्य आधार क्या था— शिकार करना

● पहिए का अविष्कार किस युग में हुआ— नवपाषण युग में

● हड़प्पा सभ्यता का प्रचलित नाम कौन-सा है— सिंधु घाटी की सभ्यता

● सिंधु की सभ्यता का काल क्या माना जाता है— 2500 ई. पू. से 1750 ई.पू.

● सिंधु की घाटी सभ्यता में सर्वप्रथम घोड़े के अवशेष कहाँ मिले— सुरकोटदा

● सिंधु की घाटी सभ्यता के लोगों का मुख्य व्यवसाय क्या था— व्यापार

● हड़प्पा की सभ्यता किस युग की सभ्यता थी— कांस्य युग

● सिंधु की घाटी सभ्यता में घर किससे बने थे— ईंटों से

● हड़प्पा के लोग कौन-सी फसल में सबसे आगे थे— कपास

● हड़प्पा की सभ्यता की खोज सर्वप्रथम किसने की— दयाराम साहनी

● सिंधु सभ्यता का प्रमुख बंदरगाह कौन-सा था— लोथल (गुजरात)

● सिंधु की घाटी सभ्यता का स्थल ‘कालीबंगा’ किस प्रदेश में है— राजस्थान में

● हड़प्पा की सभ्यता की खोज किस वर्ष हुई थी— 1921 ई.

● हड़प्पा के लोगों की सामाजिक पद्धति कैसी थी— उचित समतावादी

● नखलिस्तान सिंधु सभ्यता के किस स्थल को कहा गया है— मोहनजोदड़ो

● हड़प्पा की सभ्यता में हल से खेत जोतने का साक्ष्य कहाँ मिला— कालीबंगा

● सैंधव सभ्यता की ईंटों का अलंकरण किस स्थान से प्राप्त हुआ— कालीबंगा

● सिंधु की सभ्यता में एक बड़ा स्नानघर कहाँ मिला— मोहनजोदड़ो में

● सिंधु सभ्यता की मुद्रा पर किस देवता का चित्र अंकित था— आघशिव

● मोहनजोदड़ो को एक अन्य किस नाम से जाना जाता है— मृतकों का टीला

● सैंधव स्थलों के उत्खन्न से प्राप्त मोहरों पर किस पशु का प्रकीर्णन सर्वाधिक हुआ— बैल

● सिन्धु सभ्यता का कौन-सा स्थान भारत में स्थित है— लोथल

● भारत में खोजा गया सबसे पहला पुराना शहर कौन-सा था— हड़प्पा

● भारत में चाँदी की उपलब्धता के साक्ष्य कहाँ मिले— हड़प्पा की संस्कृति में

● मांडा किस नदी पर स्थित था— चिनाब पर

● हड़प्पा की सभ्यता का प्रमुख स्थल रोपड़ किस नदी पर स्थित था— सतलज नदी

● हड़प्पा में एक अच्छा जलप्रबंधन का पता किस स्थान से चलता है— धोलावीरा से

● सिंधु सभ्यता के लोग मिट्टी के बर्तनों पर किस रंग का प्रयोग करते थे— लाल रंग


● सिंधु घाटी की सभ्यता किस युग में थी— आद्य-ऐतिहासिक युग में

● सिंधु घाटी का सभ्यता की खोज में जिन दो भारतीय लोगों के नाम जुड़े हैं, वे कौन हैं— दयाराम साहनी और आर.डी. बनर्जी

● सिंधु घाटी सभ्यता की प्रमुख फसल कौन-सी थी— जौ एवं गेहूँ

● हड़प्पा की समकालीन सभ्यता रंगपुर कहाँ है— सौराष्ट्र में

● हड़प्पा और मोहनजोदड़ो की खुदाई किसने कराई— सर जॉन मार्शल

● सिंधु सभ्यता के लोग सबसे अधिक किस देवता में विश्वास रखते थे— मातृशक्ति

● हड़प्पा की सभ्यता में मोहरे किससे बनी थी— सेलखड़ी से

● किस स्थान से नृत्य मुद्रा वाली स्त्री की कांस्य मूर्ति प्राप्त हुई— मोहनजोदड़ो से

● मोहनजोदड़ो इस समय कहाँ स्थित है— सिंध, पाकिस्तान

● हड़प्पावासियों ने सर्वप्रथम किस धातु का प्रयोग किया— ताँबे का

● स्वतंत्रता के बाद भारत में हड़प्पा के युग के स्थानों की खोज सबसे अधिक किस राज्य में हुई—गुजरात

● हड़प्पा के निवासी किस धातु से परिचित नहीं थे— लोह से

● हड़प्पा की सभ्यता किस युग की सभ्यता थी— ताम्रयुग

● हड़प्पा का प्रमुख नगर कालीबंगन किस राज्य में है— राजस्थान में

● हड़प्पा के निवासी किस खेल में रूचि रखते थे— शतरंज

● हड़प्पा के किस नगर को ‘सिंध का बाग’ कहा जाता था— मोहनजोदड़ो को

● मोहनजोदड़ो का शाब्दिक अर्थ क्या है— मृतकों का टीला

● हड़प्पा के निवासी घरों एवं नगरों के विन्यास के लिए किस पद्धति को अपनाते थे— ग्रीड पद्धति को

सिन्धु सभ्यता महत्वपूर्ण तथ्य 
  • सिन्धु सभ्यता के लोग विश्वास करते थे – मातृशक्ति में
  • हडप्पा व मौहन जोदडो की पुरातात्विक खुदाई के प्रभार थे – जान मार्शल
  • कौन-सा सिंधु स्थल समुद्र तट पर स्थित नही था – कोटदी जी
  • मौहनजोदाडो की सबसे बडी ईमारत – विशाल अन्नागार (धान्यकोठार)
  • हडप्पाई लोगो ने घरो के विन्यास मे कौन सी पद्धति अपनाई – ग्रीड पद्धति
  • कहॉ से युगल – शवाधान का साक्ष्य मिला है – लोथल
  • कपास की उत्पादन सर्वप्रथम सिंधु क्षेत्र म ेहुआ, जिसे ग्रीक या यूनान को लोग पुकारते है – सिन्डन
  • हडप्पावासी किन-किन धातुऔ का आयात करते थे – चांदी, टिन, सोना
  • हडप्पावासी लाजवर्द (भवन निर्माण की सामग्री) का आयात कहॉ से करते थे – हिन्दूकश क्षेत्र के बदरख्सा से
  • अफगानिस्तान स्थित सिन्धु सभ्यता का स्थल है – सुर्तोगोई, मुंडीगाक, देह मोरा सींधुडई
  • सिन्धु सभ्यता के बन्दरगाह नगर थे – लोथल, सुत्कागेंडोर, अल्लाह दीनो, बालाकोट, कुनतासी
  • आद्य शिव मुहर पर किन जानवरो का अंकन है – व्याघ्र, हाथी, गैंडा, भैसा, हिरण
  • नृत्य मुद्रा वाली स्त्री की कास्य मूर्ति प्राप्त हुई – मोहनजोदडो से।

भारतीय इतिहास की प्रमुख पुस्तकें व उनके लेखक
अकबरनामाअबुल फजल
अपरादित्‍य (याज्ञवल्‍क्‍य स्‍मृति पर टीका)अपरार्क
अभिज्ञानशाकुन्‍तलम्कालिदास
अभिनयदर्पणनन्दिकेश्‍वर
अमूक्‍तमाल्‍यदाकृष्‍णदेव राय
अवंतिसुंदरीकथादण्‍डी
अष्‍टाध्‍यायीपाणिनि

आलमगीरनामामोहम्‍मद काजिम गिराजी
इन्‍शा ए महरूऐनुल्‍मुल्‍क मुल्‍तानी
उत्‍तररामचरितभवभूति
ऋतुसंहारकालिदास
कथासरित्‍सागरसोमदेव
कर्णकौतूहलभास्‍कर-।।
कर्पूर मंजरीराजशेखर
कविकण्‍ठाभरणक्षेमेन्‍द्र
कादम्‍बरीबाणभट्ट
कालनिर्णय (पराशर स्‍मृति पर टीका)माधव
काव्‍य मीमांसाराजशेखर
काव्‍यप्रकाशमम्‍मट
काव्‍यादर्शदण्‍डी
किरातार्जुनीयभारवि
कीर्तिकौमुदीसोमेश्‍वर

कुमारपालचरितहेमचन्‍द्र
कुमारसम्‍भवकालिदास
खजान उल फुतहअमीर खुसरो
गोरक्षसंहिताविद्यापति
गौडवाहोवाक्‍पतिराज
चण्‍डीशतकबाणभट्ट
तबकते नासिरीमिनहाज-उस-सिराज
तबकाते नासिरीमिनहाजुद्दीन सिराज
ताजुल मासीरहसन निजामी
तारीख'ए'हिन्‍दअल्‍बरुनी
तारीखे फखरुदीन मुबारकशाहीफखरे मुदाबिर
तारीखे फिरोजशाहीजियाउद्दीन बरनी
तारीखे मुबारकशाहीयाहिया बिन अहमद
तारीखे शेरशाहीअब्‍बास खां शेरवानी
दशकुमारचरितदण्‍डी
दायभागजीमूतवाहन
देवीचन्‍द्रगुप्‍तम्विशाखदत्‍त
द्वयाश्रय काव्‍यहेमचन्‍द्र
ध्‍वन्‍यालोकआनंदवर्धन
नल दमनफैजी
नवसाहसांक चरितपद्मगुप्‍त
नवसाहसांकचरितपद्मगुप्‍त परिमल
नागानन्‍दहर्षवर्धन
नाट्श्यशास्‍त्रभरतमुनि
नासिर आलमगीरीसाकी मुस्‍ताद खॉं
नील दर्पणदीनबन्‍धु मित्र
नूह सिपेहरअमीर खुसरो
नैषधचरितश्रीहर्ष
पंचसिद्धान्तिका वराहमिहिर
पृथ्‍वीराज विजयजयानक भट्ट
प्रतिमानाटकम्भास
प्रियदर्शिकाहर्षवर्धन
फिलासफी ऑफ बमभगवतीचरण वोहरा
फुतुह उस सलातीनइसामी
फुतुहाते आलमगीरीईश्‍वरदास नागर
फुतुहाते फिरोजशाहीफिरोजशाह तुगलक
बाल भारत (प्रचण्‍ड पाण्‍डव)राजशेखर
बाल रामायणराजशेखर
बुद्धचरित अश्‍वघोष
ब्रम्‍हस्‍फुट सिद्धान्‍तब्रम्‍हगुप्‍त
मत्‍तविलासप्रहसनमहेन्‍द्रवर्मा पल्‍लव
मन्‍त्र भाष्‍यऊवट
महाभास्‍करीयभास्‍कर-।
महावीरचरितभवभूति
मातृमोदकऊवट
माध्‍यमिक कारिका नागार्जुन
मालतीमाधवभवभूति
मालविकाग्निमित्रकालिदास
मिताक्षर ज्ञानेश्‍वर
मुद्राराक्षसविशाखदत्‍त
मुन्‍तखब उत तवारीखबदांयूनी
मुन्‍तखबुल लुबाबखफी खॉं
मृच्‍छकटिकशूद्रक
मेघदूतकालिदास
युक्तिकल्‍पतरुभोज परमार
रत्‍नावलीहर्षवर्धन
राजतरंगिणीकल्‍हण
राम चरितसन्‍ध्‍याकर नन्‍दी
रेहलाइब्‍नबतूता
लघुभास्‍करीयभास्‍कर-। 
लीलावतीभास्‍कराचार्य
वज्रछेदिका वसुबन्‍धु
व़हत्‍कथा मंजरीक्षेमेन्‍द्र
वासवदत्‍तासुबन्‍धु
विक्रमांकदेवचरितविल्‍हण
विद्वशाल भंजिकाराजशेखर
वृहत्‍कथागुणाढ्य
वृहत्‍कथामंजरीक्षेमेन्‍द्र
वृहत्‍संहितावराहमिहिर
वेदार्थ दीपिकाऊवट
शब्‍दानुशासनहेमचन्‍द्र
शाहनामाफिरदौसी
शिशुपालवधमाघ
संगीत राजराणा कुम्‍भा
सत्‍यार्थ प्रकाशदयानन्‍द सरस्‍वती
समरांगण सूत्रधार भोज परमार
सर्वानुक्रम भाष्‍यऊवट
सिद्धान्‍तशिरोमणिभास्‍कर-।।
स्‍वप्‍नवासवदत्‍ताभास
हर्षचरितबाणभट्ट
हुमायूँनामागुलबदन बेगम      

No comments

Powered by Blogger.